Sports

कोलकाता : रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर के तेज गेंदबाज हर्षल पटेल आखिरी ओवरों में गेंदबाजी से घबराते नहीं है बल्कि उनका कहना है कि मैच दर मैच वह इन अत्यधिक दबाव वाले पलों का सामना करना चाहते हैं। घरेलू क्रिकेट में हरियाणा के लिये खेलने वाले पटेल ने डैथ ओवरों में अपनी गेंदबाजी की विविधता का बखूबी प्रयोग किया है। लखनऊ सुपर जाइंट्स के खिलाफ उन्होंने ‘डैथ ओवर विशेषज्ञ’ की अपनी उपाधि के साथ पूरा न्याय किया।

उन्होंने लखनऊ पर 14 रन से मिली जीत के बाद कहा, ‘मैं अच्छा प्रदर्शन कर सकूंगा या नहीं, मैं नहीं जानता और मैं नहीं कह सकता। लेकिन मैं इस तरह के हालात से बार बार गुजरना चाहता हूं। इसमें कोई शक नहीं।’ उन्होंने कहा, ‘पिछले दो तीन साल से मुझे इसका इंतजार था। मैं हरियाणा के लिये आखिरी ओवरों में गेंदबाजी करता रहा हूं और इसे बड़े स्तर पर करना चाहता था। मैं खुद को उन हालात में बार बार देखना चाहता हूं। कई बार अच्छा प्रदर्शन कर सकूंगा तो कई बार नहीं भी होगा।’

पटेल ने कहा, ‘कई मैचों में पराजय भी हाथ लगेगी लेकिन चलता है । बस चुनौतियों से कतराना नहीं है।’ पटेल ने लखनऊ के खिलाफ दो ओवरों में सिर्फ आठ रन दिए। उन्हें 18वें ओवर में गेंद सौंपी गई तब लखनऊ को 41 रन बनाने थे और क्रीज पर केएल राहुल तथा मार्कस स्टोइनिस थे। पटेल ने कहा, ‘मैं नर्वस था। इस तरह के समीकरण पर कोई भी नर्वस होगा। मैने सोचा कि वाइड यॉर्कर से काम नहीं चलेगा। इन बल्लेबाजों का विकेट लेना है और स्टोइनिस सीमा पर कैच दे बैठे।’ 

.
.
.
.
.