IPL 2019
Sports

स्पोर्ट्स डेस्क : राजस्थान राॅयल्स और चेन्नई सुपरकिंग्स के बीच जयपुर में खेले गए मैच के दौरान अंपायर के नो बाॅल ना देने पर विवाद हो गया था और कैप्टन कूल महेंद्र सिंह धोनी मैदान में आ गए थे। धोनी की इस हरकत के कारण उन पर 50 फीसदी मैच फीस का जुर्माना भी लगा। लेकिन वीरेंद्र सहवाग सहित कुछ खिलाड़ियों का मानना है कि उन पर एक-दो मैच का बैन लगना चाहिए था, लेकिन वह सस्ते में छूट गए हैं। 

PunjabKesari

टीम इंडिया के पूर्व सलामी बल्‍लेबाज सहवाग ने धोनी की सजा पर सवाल उठाते हुए कहा, 'ऐसा उन्‍होंने इंडियन टीम के लिए किया होता तो मैं खुश होता। वह ऐसे पड़ाव पर हैं जहां एक साल बाद वह रिटायर हो जाएंगे। हमने कभी उन्‍हें ऐसे गुस्‍सा करते देखा नहीं है। मुझे नहीं लगता कि उन्‍हें मैदान में आना चाहिए था। वहां दो बल्‍लेबाज मौजूद थे। वे पहले से ही अंपायरों से पूछ रहे थे कि नो बॉल है या नहीं है।'

उन्‍होंने आगे कहा, 'ऐसे में तो कोई भी कप्‍तान कल को मैदान में चला जाएग और अंपायर से सवाल जवाब करने लगेगा। फिर अंपायर की वैल्‍यू क्‍या रह जाएगी, इसलिए मुझे लगता है कि उन्‍हें सस्‍ते में छोड़ दिया। धोनी की इस हरकत पर कम से कम एक एग्‍जाम्‍पल सेट करना चाहिए था। मैच रैफरी को यह तय करना चाहिए था कि जब अंपायर अंदर है तो वह तय करेंगे कि वहां क्‍या होगा न कि कोई बाहर से आकर कुछ करे।'

वॉन ने भी दिया सहवाग का साथ

इंग्‍लैंड के पूर्व कप्‍तान माइकल वॉन ने भी सहवाग की बात का समर्थन करते हुए कहा कि धोनी को 1-2 मैच के लिए बैन करना चाहिए था जिससे सभी खिलाड़ियों को संदेश जाता कि उन्‍होंने (धोनी) जो किया है वह स्‍वीकार करने योग्य नहीं था। 

PunjabKesari

अजय जडेजा की प्रतिक्रिया

पैनल में बैठे अजय जडेजा ने इस तरह धोनी के मैदान में आने पर कहा कि अंपायर की वैल्‍यू तो उसी दिन खत्‍म हो गई थी जिस दिन डीआरएस आया था। इसके साथ ही उन्‍होंने भी धोनी को सजा देने की बात भी की थी। 

यह सजा काफी नहीं : बेदी
पूर्व कप्‍तान बिशन सिंह बेदी ने कहा भी धोनी को मिली सजा कम बताया था और कहा था कि उन्हें इसके लिए कड़ी सजा मिलनी चाहिए थी।

PunjabKesari

गांगुली ने किया धोनी का बचाव

पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली ने धोनी का इस मामले में बचाव किया है और कहा कि मैच के दौरान ऐसा हो जाता है।  

.
.
.
.
.