Sports

चेन्नई: भारत के कई अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटरों के इस साल रणजी ट्राॅफी नहीं खेलने को लेकर हो रही आलोचना पर पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने शुक्रवार को कहा कि लोगों को ‘व्यक्तिगत पसंद की आलोचना’ करने से बचना चाहिए। युजवेंद्र चहल और शिखर धवन ने इस साल रणजी ट्राॅफी नहीं खेला जबकि भारत के लिए सिर्फ एक प्रारूप में खेलने वाले अंबाती रायुडू ने प्रथम श्रेणी क्रिकेट को अलविदा कह दिया।
PunjabKesari
धोनी ने टेस्ट क्रिकेट को 2014 में अलविदा कह दिया था। सुनील गावस्कर ने हाल ही में कहा था कि मैच फिट रहने के लिए उन्हें प्रथम श्रेणी क्रिकेट खेलना चाहिए। धोनी ने बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष और इंडिया सीमेंट के प्रमुख एन श्रीनिवासन की किताब के विमोचन के मौके पर कहा, ‘खिलाडिय़ों को संभालना जरूरी है। हमें घरेलू र्सिकट थोड़ा कम चुनौतीपूर्ण बनाना चाहिये । इसके अलावा टी20 क्रिकेट और व्यक्तिगत पसंद की भी ज्यादा आलोचना नहीं की जानी चाहिए ।’
sports news, Cricket news in hindi, Former Indian captain, Mahendra Singh Dhoni, responds, Sunil Gavaskar in gestures, Do not criticize personal choice
धोनी ने भारतीय टीम के विभिन्न प्रारूपों में प्रदर्शन पर संतोष जताया और ऑस्ट्रेलिया में सफलता का श्रेय गेंदबाजों को दिया। उन्होंने कहा, ‘हम जिस तरह से खेल रहे हैं, मैं काफी खुश हूं। तेज गेंदबाज टेस्ट क्रिकेट में उम्दा प्रदर्शन कर रहे हैं । टेस्ट मैच जीतने के लिए 20 विकेट चाहिए जो चाहे स्पिनर लें या तेज गेंदबाज।’ उन्होंने कहा, ‘हमारे गेंदबाज 20 टेस्ट विकेट ले रहे हैं और हमारे पास हर टेस्ट जीतने का मौका है।’

.
.
.
.
.