IPL 2019
Sports

नागपुर : आस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज पैट कमिंस ने कहा है कि भारतीय कप्तान विराट कोहली की 116 रन की पारी ने दोनों टीमों के बीच मंगलवार को यहां हुए दूसरे एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच में अंतर पैदा किया। इस मैच को मेजबान टीम ने 8 रन से जीतकर पांच मैचों की सीरीज में 2-0 की बढ़त बनाई। कोहली के 40वें एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय शतक से भारत मध्यक्रम की नाकामी के बावजूद 250 रन का प्रतिस्पर्धी स्कोर खड़ा करने में सफल रहा। इसके बाद भारतीय गेंदबाजों विशेषकर जसप्रीत बुमराह (29 रन पर दो विकेट) और विजय शंकर (15 रन पर दो विकेट) ने डेथ ओवरों में धैर्य बरकरार रखते हुए आस्ट्रेलिया को 242 रन पर समेट दिया।

PunjabKesari

आस्ट्रेलिया के लिए 29 रन देकर 4 विकेट चटकाने वाले कमिंस ने मैच के बाद कहा, ‘‘मुझे लगता है कि निश्चित तौर पर उसने (कोहली ने) अंतर पैदा किया। हमारे लिए कुछ अच्छी साझेदारियां हुईं, मार्कस स्टोइनिस ने 50 से अधिक रन बनाए, कुछ खिलाडिय़ों ने काफी अच्छी शुरुआत की लेकिन हमारे पास वह एक खिलाड़ी भी नहीं था जो अंत तक टिका रहता।’ उन्होंने कहा, ‘इसलिए उनके पास अंत तक विराट जैसे खिलाड़ी का होना अहम रहा जिसने काफी गेंद खेली, वह संभवत: उनके 200 के करीब रहने या 250 तक पहुंचने के बीच का अंतर रहा। उसने अपनी पारी के दौरान कोई मौका नहीं दिया।’ 

PunjabKesari

कमिंस ने कहा, ‘उसने सिर्फ अच्छे शाट खेले। मुझे लगता है कि अधिकांश समय हमने काफी अच्छी गेंदबाजी की लेकिन उसने इस पिच पर जिस तरह स्पिन का सामना किया उससे अंतर पैदा किया क्योंकि इसे खेलना काफी मुश्किल लग रहा था।’ पच्चीस साल के इस तेज गेंदबाज ने कहा कि कोहली इस समय अपने खेल के पूरी तरह नियंत्रण में लग रहा है। उन्होंने कहा, ‘लेकिन उसने (कोहली ने) खूबसूरत बल्लेबाजी की, उसने कोई मौका नहीं दिया। ऐसा लगा कि उसके पास इतना अधिक समय है। अगर कोई अच्छी गेंदबाजी कर रहा है तो वह इंतजार करने और बाद में फायदा उठाने को तैयार रहता है। वह खराब गेंदों को सबक सिखाने से नहीं चूकता।’ 

कमिंस ने कहा कि उनकी टीम के लिए इस मैच में काफी सकारात्मक पक्ष रहे और वह अपने प्रदर्शन से संतुष्ट हैं। उन्होंने कहा, ‘मुझे नई गेंद से गेंदबाजी करना पसंद है, विशेषकर एकदिवसीय क्रिकेट में इस तरह की पिचों पर, यहां गेंद काफी तेजी से पुरानी होती है। इसलिए मुझे गेंद के कोमल होने से पहले नई गेंद से स्विंग, तेज गति और उछाल से गेंद कराने की कोशिश करना पसंद है।’ 

.
.
.
.
.