Sports

अबुधाबीः मुख्य कोच स्टीफन कांस्टेनटाइन ने शुक्रवार को स्पष्ट किया कि वह अपने खिलाड़ियों की काबिलियत पर भरोसा रखते हैं, उनकी उम्र में नहीं। उन्होंने साथ ही कहा कि वह अभी से अगले 10 वर्षों तक भारतीय फुटबाल के लिये बेहतरीन टीम देख सकते हैं। भारत संयुक्त अरब अमीरात में पांच जनवरी से शुरू होने वाले आगामी एएफसी एशियाई कप में 25 की औसत उम्र के खिलाड़ियों की दूसरी सबसे युवा टीम उतार रहा है।         

भारत ने ओमान से अंतरराष्ट्रीय मैत्री मैच में गोलरहित ड्रा खेला, जिसके बाद कांस्टेनटाइन ने कहा, ‘‘मैं सीनियर और जूनियर खिलाड़ियों में अंतर नहीं देखता। ये सभी भारत के लिये खेल रहे हैं। मेरी दिलचस्पी उनकी उम्र में नहीं बल्कि उनकी काबिलियत में है। हमारी टीम की औसत उम्र 25 के करीब है। भारतीय फुटबाल के लिए स्थिति बहुत शानदार है क्योंकि हम अभी से अगले 10 साल के लिये बेहतरीन टीम देख सकते हैं। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘इस टूर्नामेंट के बाद हमारे पास युवा भारतीय टीम होगी, जिसके पास एशियाई कप में खेलने का अनुभव होगा। ’’ ओमान के खिलाफ गोलरहित ड्रा का जिक्र करते हुए कांस्टेनटाइन ने कहा कि वह अपनी टीम के प्रयासों से खुश हैं। उन्होंने कहा, ‘‘यह हमारे लिये काफी अच्छा मैच रहा। ओमान की टीम काफी मुश्किल प्रतिद्वंद्वी है और पिछले 12 महीनों से टीम किसी मुकाबले में हारी नहीं है। लड़कों ने कड़ी मेहनत की है और मैं सकारात्मक नतीजे से खुश हूं। ’’          

भारतीय टीम एशियाई कप में अपने अभियान की शुरूआत छह जनवरी को थाईलैंड के खिलाफ मुकाबले से करेगी। उन्होंने कहा, ‘‘हम पर कोई दबाव नहीं है। चार साल पहले किसी ने हमारे क्वालीफाई करने की उम्मीद नहीं की थी। हमने क्वालीफाई कर लिया तो हर कोई सोच रहा है कि हम तीनों मैच गंवा देंगे। यह हम पर है कि हम साबित करें कि हम यहां होने के हकदार हैं। ’’      


 

.
.
.
.
.