Sports

नई दिल्लीः भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली ने जब से काउंटी क्रिकेट खेलने के लिए सरे टीम से कांट्रैक्ट किया है तब से बवाल मचना शुरू हो गया है। बवाल इसलिए क्योंकि काउंटी में खेलने के कारण ही कोहली 14 जून से बेंगलुरू में अफगानिस्तान के खिलाफ होने वाले एकमात्र टेस्ट नहीं खेल पाएंगे। अब सवाल उठ रहे हैं कि क्या कोहली के लिए देश से ज्यादा काउंटी खेलना जरूरी हो गया है। इन्हीं सवालों के बीच कांग्रेस के महासचिव शशि थरूर ने भी कोहली पर ट्वीटर के जरिए तंज कसा है। 

शशि थरूर ने लिखा, ''तो बीसीसीआई ने अपनी प्राथमिकताएं साफ कर दी हैं। विराट कोहली आईपीएल को काउंटी क्रिकेट से आगे रखते हैं। लेकिन अब वह काउंटी क्रिकेट को देश की टेस्ट मैच की टीम की कप्तानी से ज्यादा महत्व दे रहे हैं। वाह''. उनके इस ट्वीट के बाद यूजर्स ने भी उनको जवाब दिए। कईयों ने कहा कि इसमें कुछ भी गलत नहीं है, इंग्लैंड श्रृंखला जल्द ही आ रही है, उनके लिए यह अनुभव टीम इंडिया के लिए लाभदायक होगा। 

थरूर के इस ट्वीट का जवाब बीसीसीआई के वर्तमान सचिव अमिताभ चौधरी ने दिया है। अमिताभ चौधरी ने कहा, ''हम अफगानिस्तान के साथ होने जा रही टेस्ट मैच श्रृंखला को भी उतना ही महत्व दे रहे हैं। जितना जून 1932 में लॉडर्स में हुई टेस्ट श्रृंखला को दिया था। वह बेहद जोशीला खिलाड़ी है। इसके बावजूद ये कहना कि काउंटी क्रिकेट के लिए घरेलू टीम के नियमित कप्तान को न खिलाना, किसी भी तरह से विपक्षी टीम का अपमान नहीं है। किसी भी काम को उसकी नीयत से देखा और आंका जाना चाहिए।''

 


 

.
.
.
.
.