Sports

नई दिल्ली : रवि दहिया के कोच सतपाल सिंह ने कहा कि सेमीफाइनल में इस पहलवान के 2-9 से पिछडऩे के बाद अपने प्रतिद्वंद्वी को चित करने का प्रदर्शन बेजोड़ है और उनका मानना है कि इस रजत पदक से देश के युवाओं को प्रेरणा मिलेगी। दहिया ने बुधवार को कजाखस्तान के नूरइस्लाम सनायेव के खिलाफ पिछडऩे के बाद शानदार प्रदर्शन किया और अपने प्रतिद्वंद्वी को चित करके फाइनल में जगह बनाई थी। स्वर्ण पदक के मुकाबले में हालांकि वह रूस के मौजूदा विश्व चैंपियन जावुर युगुएव से 4-7 से हार गए।

महाबली सतपाल ने कहा कि यह देखना अद्भुत और अविश्वसनीय था क्योंकि मैंने किसी को भी 2-9 से पिछडऩे के बाद केवल एक मिनट में जीतते हुए नहीं देखा। उन्होंने कहा कि यह मुकाबला भी सुशील के लंदन के सेमीफाइनल जैसा था जब सुशील ने पिछडऩे के बाद वापसी की थी। वह अविश्वसनीय मुकाबला था और यह (रवि) मुकाबला भी बेहतरीन था।

उन्होंने कहा कि दहिया के प्रदर्शन से कुश्ती की स्थिति में और सुधार होगा। सतपाल ने कहा कि जब सुशील ने कांस्य पदक (बीजिंग ओलिम्पिक) जीता था तो वह भारतीय खेलों में बड़ी बात थी। उसने भारतीय खेलों को वैश्विक स्तर पर नई पहचान दिलाई। अब रवि ने वह किया जिसे केवल वही कर सकता था। जो माता-पिता अभी तक सतपाल और सुशील का नाम लेते थे अब वे रवि का नाम भी लेंगे।

.
.
.
.
.