Sports

जकार्ता : एक दिन पहले तक अपनी टीम को अपराजेय बता रहे भारतीय हॉकी कोच हरेंद्र सिंह मलेशिया के खिलाफ सडन डैथ में मिली सनसनीखेज पराजय से स्तब्ध हो गए हैं। हरेंद्र ने भारतीय हॉकी टीम की एशियाई खेलों के सैमीफाइनल में मलेशिया के हाथों मिली हार के बाद अपनी टीम को जमकर लताड़ा। गत चैंपियन हॉकी टीम इस हार के बाद अपना स्वर्ण पदक नहीं बचा पाई और अब उसे कांस्य पदक के लिए एक सितंबर को चिरप्रतिद्वंदी पाकिस्तान से खेलना होगा जबकि स्वर्ण पदक का मुकाबला मलेशिया और जापान के बीच होगा। अपनी टीम की हार से हरेन्द्र बेहद क्षुब्ध नजर आए उनके पास हार पर बोलने के लिए शब्द कम पड़ रहे थे।

हरेन्द्र ने मलेशिया को जीत का श्रेय दिया और साथ ही कहा- हमने बेहद खराब गलतियां की और इसकी कीमत चुकाई। हम चीजों को सही तरीके से नहीं रख पाये और भारतीय स्किल दिखाने की कोशिश में अपनी लय खो बैठे। यह भारतीय हॉकी के लिए बड़ा झटका है जिससे अगले ओलंपिक की राह बहुत मुश्किल हो गई है। हमने फाइनल में पहुंचने के आसान मौके गंवाए।

शूटआउट के लिए कोच ने कहा- शूटआउट किसी भी टीम का खेल हो सकता है। हमने निर्धारित समय में गलतियां की और शूटआउट में कोई भी टीम जीत सकती है। फाइनल से बाहर हो जाने के बाद हमें कांस्य पदक जीतने के लिए पूरा जोर लगाना होगा।

.
.
.
.
.