Sports

चांगवोनः दिव्यांश सिंह पंवार और श्रेया अग्रवाल ने 10 मीटर एयर राइफल मिश्रित टीम जूनियर वर्ग का कांस्य पदक जीता, लेकिन यहां आईएसएसएफ विश्व निशानेबाजी चैंपियनशिप के चौथे दिन भारत के सीनियर निशानेबाजों की झोली खाली रही। दिव्यांश और श्रेया ने 42 टीमों के क्वालीफिकेशन दौर में 834 .4 अंक के साथ पांचवें स्थान पर रहते हुए पांच टीमों के फाइनल में जगह बनाई। इन दोनों ने फाइनल में कुल 435 अंक के साथ बुधवार को तीसरा स्थान हासिल करते हुए कांस्य पदक जीता। सोफिया बेनेटी और मार्को सुपिनी की इटली की जोड़ी ने स्वर्ण जबकि सादेघियान आरमीना और मोहम्मद आमिर नेकोनाम की ईरान की जोड़ी ने रजत पदक हासिल किया। इलावेनिल वलारिवान और हृदय हजारिका की भारत की एक अन्य जोड़ी इसी स्पर्धा में 829 .5 अंक के साथ 13वें स्थान पर रही।          

भारत का अबतक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन
भारत इस टूर्नामेंट में अब तक तीन स्वर्ण, तीन रजत और तीन कांस्य पदक जीत चुका है। भारत का इस टूर्नामेंट के इतिहास का यह सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। जूनियर निशानेबाजों के अच्छे प्रदर्शन के बीच हालांकि सीनियर निशानेबाजों ने निराश किया। यह चैंपियन तोक्यो में 2020 में होने वाले ओलंपिक का पहला क्वालीफाइंग टूर्नामेंट है और भारत लगातार दूसरे दिन कोटा हासिल करने में नाकाम रहा। पुरुष 50 मीटर राइफल प्रो स्पर्धा में चैन सिंह 623 .9 अंक के साथ 14वें स्थान पर रहे। एशियाई खेलों के रजत पदक विजेता संजीव राजपूत ने 620 .0 अंक के साथ 48वां स्थान हासिल किया। चैन सिंह, राजपूत और गगन नारंग की टीम 1856 .1 अंक के साथ 15वें स्थान पर रही।          

महिला 50 मीटर राइफल प्रोन में तेजस्विनी सावंत 617 .4 अंक के साथ 28वें स्थान पर रही। सोमवार को महिला 10 मीटर एयर राइफल स्पर्धा में कोटा हासिल करने वाली अंजुम मोदगिल ने 616 .5 अंक के साथ 33वां स्थान हासिल किया। श्रेया सक्सेना 609 .9 अंक के साथ 54वें स्थान पर रही। भारतीय टीम ने 1848 .1 अंक के साथ छठा स्थान हासिल किया। जूनियर महिला 10 मीटर एयर पिस्टल में अभिदन्या पाटिल ने 568 अंक के साथ 13वां स्थान हासिल किया। अभिदन्या ने मंगलवार के सौरभ चौधरी के साथ मिलकर 10 मीटर एयर पिस्टल मिश्रित टीम कांस्य पदक जीता था। अंजुम और अपूर्वी चंदेला तोक्यो ओलंपिक का कोटा हासिल करने वाली शुरुआती भारतीय निशानेबाज हैं। अंजुम ने महिला 10 मीटर एयर राइफल में रजत पदक जीता जबकि अपूर्वी चौथे स्थान पर रही।      


 

.
.
.
.
.