Sports

मुंबई : आईपीएल-11 की अगर शानदार शुरुआत हुई तो उसके लिए सिर्फ एक ही खिलाड़ी को जिम्मेदार माना जा सकता है। वो है- चेन्नई सुपरकिंग्स के हरफनमौला खिलाड़ी ड्वेन ब्रावो। वानखेड़े स्टेडियम में आईपीएल का पहला मैच मुंबई इंडियन्स और चेन्नई सुपर किंग्स के बीच खेला गया था। मुंबई ने पहले खेलकर 166 रन का लक्ष्य रखा। जवाब में खेलने उतरी सीएसके टीम लडख़ड़ा गई। लेकिन इसी दौरान ब्रावो अपनी टीम के लिए संकटमोचन बनकर उभरे। उन्होंने 30 गेंद में 68 रन की आतिशि मैच जिताऊ पारी खेली। मैच के बाद ब्रावो ने कहा कि यह उनकी अब तक की ‘अपनी सर्वश्रेष्ठ पारी’ थी। 
ब्रावो ने कहा- ये मेरी सर्वश्रेष्ठ पारी है। मुझे नहीं लगता कि मैंने किसी प्रारूप में ऐसी पारी खेली है। इसलिए यह खास है। उन्होंने इस दौरान सात छक्के और तीन चौके लगाकर मुंबई इंडियन्स के गेंदबाजों को स्तब्ध कर दिया।

अर्धशतक पूरा करने के बाद नहीं उठाया था बल्ला
वेस्टइंडीज के खिलाड़ी ने कहा- जैसा की आप ने देखा होगा, मैंने अर्धशतक पूरा करने के बाद बल्ला नहीं उठाया। मुझे पता था कि मेरा काम पूरा नहीं हुआ। अभी भी लंबा सफर तय करना था। मैं लय में था। मेरा पूरा ध्यान अपनी टीम के लिए मैच जीतने पर था। उन्होंने कहा- आखिरी ओवर में आउट होने से मैं निराश था। लेकिन मैंने ऐसी पारी खेली जिससे टीम जीतने की स्थिति में आ गयी और आखिरकार हम जीते। मैं खुश हूं कि मैं बल्ले से योगदान देने में सक्षम रहा।