IPL 2019
Sports

जालन्धर : फुटबॉल की तरह आईपीएल में भी मिड सीजन खिलाडिय़ों का ट्रांसफर हो सकेगा। इस नियम के तहत कैप्ड और अनकैप्ड दोनों तरह के खिलाडिय़ों को एक-दूसरी टीम में शामिल किया जा सकता है। हालांकि इस नियम के तहत उन्हीं कैप्ड खिलाडिय़ों का ट्रांसफर हो सकेगा, जिन्होंने अब तक दो या फिर उससे कम मैच खेले हैं। जबकि किसी भी खिलाड़ी का ट्रांसफर तभी हो सकता है जब दोनों टीमों के साथ-साथ खिलाड़ी भी इसके लिए तैयार हो। यह प्रक्रिया 29 अप्रैल से लेकर 10 मई तक चलेगी।

इस नियम की सबसे पहले मुंबई इंडियंस के कप्तान रोहित शर्मा ने तारीफ की है। रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर के मोईन अली, मुंबई इंडियंस के जेपी डुमिनी, सनराइजर्स हैदराबाद के एलेक्स हेल्स, राजस्थान रॉयल्स के इश सोढ़ी और दिल्ली डेयरडेविल्स के संदीप लामिछाने का इस नियम के कारण फ्रैंचाइजी प्रबंधन फायदा उठा सकता है। हालांकि इसके लिए खिलाड़ी का सहमत होना जरूरी है।

मिड सीजन ट्रांसफर ईपीएल या ला लीगा में काफी समय से प्रयोग में है। आईपीएल में इसकी मांग पहली बार 2016 में हुई थी। उस वक्त डेल स्टेन को पूरा सीजन बेंच पर बैठकर गुजारना पड़ा था। इसके बाद यह मुद्दा आईपीएल गवर्निंग काउंसिल के सामने उठा था। वहां पर रोहित शर्मा ने इसका समर्थन किया था। कहा गया था हर टीम के पास अधिकतम 25 खिलाड़ी होते हैं लेकिन इसमें खेलते सिर्फ 18-19 है ऐसे में बेंच पर बैठे खिलाडिय़ों को दूसरा मौका जरूर मिलना चाहिए।

.
.
.
.
.