Sports

नई दिल्लीः भारत की अंडर-16 फुटबाल टीम के कोच बिबियानो फर्नांडिज ने जोर्डन के अम्मान में डब्ल्यूएएफएफ चैम्पियनशिप में यमन को 3-0 से शिकस्त देकर अपना अभियान समाप्त करने के बाद कहा कि उनके खिलाडिय़ों ने अब हार के बाद वापसी करना सीख लिया है। टूर्नामेंट में उन्होंने इराक पर ऐतिहासिक 1-0 से जीत दर्ज की जो देश की मौजूदा अंडर-16 एशियाई चैम्पियन पर पहली जीत है। भारत ने टूर्नामेंट में चार मैचों में नौ अंक हासिल किये।           

फर्नांडिज ने कहा, ‘‘हमने अब सीख लिया है कि वापसी कैसे करें और मैच कैसे जीते, विशेषकर हार के बाद। अब खिलाडिय़ों का खुद पर भरोसा बढ़ रहा है। ’’ कोच ने कहा, ‘‘हम चीन, थाईलैंड और मलेशिया में पिछले मैचों में अंत में गोल गंवा रहे थे। टीम अंत में गोल करने के लिए कड़ी मेहनत रही थी लेकिन इस दौरे पर हमने मौकों को गोल में तब्दील किया और हम डिफेंड करने में भी सहज स्थिति में रहे और हमने खुद के खिलाफ गोल भी नहीं होने दिया। ’’          

भारतीय टीम ने अपने चार मैचों में केवल दो गोल गंवाए और अन्य तीन मुकाबलों में एक भी गोल नहीं गंवाया। बिबियानो ने कहा, ‘‘सुधार की गुंजाइश हमेशा रहती है और हमें काफी काम करना है। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘इराक के खिलाफ मिली जीत काफी विशेष रही। 93वें मिनट में किया गया विजयी गोल हमेशा हमारे साथ रहेगा। अब सबसे बड़ी चुनौती टीम का ध्यान केंद्रित रखना और सफलता हासिल करने के लिये बेताब रखने की होगी। ’’     


 

.
.
.
.
.