Sports

नई दिल्लीः भारतीय डेविस कप कप्तान महेश भूपति ने सर्बिया के खिलाफ डेविस कप मुकाबले के लिए बेहतर रैंकिंग वाले जीवन नेदुनचेझियान और पूरव राजा पर एन श्रीराम बालाजी को तरजीह देने के फैसले का गुरुवार को समर्थन किया। बालाजी को 14 से 16 सितंबर तक र्सिबया के खिलाफ उसी की सरजमीं पर होने वाले मुकाबले के लिए दिविज शरण के विकल्प के तौर पर टीम में शामिल किया गया है। दिविज कंधे में चोट के कारण मुकाबले से हट गए हैं। 

साकेत माइनेनी को युकी भांबरी की जगह टीम में शामिल किया गया है क्योंकि चैलेंजर टूर्नामेंट में खेलने का हवाला देकर सुमित नागल ने इस मुकाबले में खेलने से इनकार कर दिया था। बालाजी अब अपने दूसरे मुकाबले में खेलने को तैयार हैं। इससे पूर्व पिछले साल उन्होंने उज्बेकिस्तान के खिलाफ विजयी पदार्पण किया था। एआईटीए आम तौर पर रैंकिंग के आधार पर खिलाडिय़ों का चयन करता है लेकिन दिविज और युकी दोनों के चोटिल होने के कारण हटने पर संघ को अपनी नीति बदलने पर बाध्य होना पड़ा।          

चयन के पीछे के तर्क के बारे में पूछने पर भूपति ने पूछा, ‘‘मैं संतुलित टीम चाहता था। हमारे पास प्रजनेश के रूप में पहले से बायें हाथ का खिलाड़ी था और मैं ऐसा खिलाड़ी चाहता था जिसकी र्सिवस मजबूत हो।’’ बालाजी दुनिया के 110वें नंबर के खिलाड़ी हैं जबकि जीवन और पूरव क्रमश: 88 और 89वें स्थान के साथी शीर्ष 100 खिलाडिय़ों में शामिल हैं। भूपति ने कहा, ‘‘डेविस कप में युगल बनाम एकल नहीं होता। आप हमेशा विरोधी टीम, सतह, हालात और संयोजन को ध्यान में रखते हो। अगर आप हमेशा रैंकिंग पर ध्यान दोगे तो मुझे नहीं लगता कि हम मुकाबला जीतने की कोशिश के लिए खिलाडिय़ों का सही संयोजन हासिल कर सकते हैं।’’          

एआईटीए की चयन समिति के अध्यक्ष एसपी मिश्रा ने कहा कि फैसले पूरी तरह से गैर खिलाड़ी कप्तान भूपति की सिफारिशों के आधार पर किए गए। मिश्रा ने कहा, ‘‘रोहन बोपन्ना और बालाजी ने उज्बेकिस्तान के खिलाफ (अप्रैल 2017 में बेंगलुरू में) शानदार मैच खेला। उनका संयोजन अच्छा है इसलिए कप्तान की सलाह पर हमने बालाजी को चुना। साथ ही किसी अन्य खिलाड़ी की उपलब्धता के बारे में पूछने का समय नहीं था क्योंकि कल सुबह ही हमें दिविज और युकी की अनुपलब्धता के बारे में पता चला।’’ चयन की जानकारी रखने वाले एक सूत्र ने साथ कही बताया कि जीवन का खेल क्ले कोर्ट के अनुकूल नहीं है।      
 

.
.
.
.
.