Top News

नई दिल्लीः भारतीय पवर्तारोही सत्यरूप सिद्धांत और मौसमी खातुआ ने एशिया के सबसे ऊंचे और ईरान स्थित ज्वालामुखी पर्वत माउंट दामावंद पर तिरंगा फहराकर इतिहास रच दिया है। सत्यरूप यह उपलब्धि हासिल करने वाले चौथे भारतीय बन गए हैं। गौरतलब है कि बचपन में सत्यरूप अस्थमा से पीड़ित थे, जो इनहेलर से एक पफ लिए बिना 100 मीटर भागने में भी हांफ जाते थे, लेकिन बाद में उन्होंने अपने जुनून और बुलंद हौसले के दम पर सात चोटियों की चढ़ाई को सफलतापूर्वक पूरा किया। वह सात सबसे ऊंची पर्वत चोटियों और सात ज्वालामुखी पर्वतों को फतह करने वाले दुनिया के सबसे कम उम्र के व्यक्ति होंगे। 

6 सितंबर की सुबह ईरान के लिए रवाना हुई थी तिकड़ी 
बंगाल में नदिया जिले के कल्याण की रहने वाली 36 साल की मौसमी खाटुआ ने भी सत्यरूप के साथ एशिया के सबसे ऊंचे ज्वालामुखी शिखर पर चढऩे का रिकॉर्ड बनाया। पर्वतारोही अभियान दल में तीन सदस्य सत्यरूप, मौसमी और भास्वती चटर्जी शामिल थे। यह तिकड़ी 6 सितंबर की सुबह ईरान के लिए रवाना हुई थी। 10 सितंबर की सुबह इस टीम ने 6 बजे सुबह ईरान में माउंट दामावंद की चढ़ाई शुरू की। भारतीय मानक समय के अनुसार 1.45 मिनट पर सिद्धांत और मौसमी ने चढ़ाई पूरी की जबकि उनके तीसरे साथी ने 4600 मीटर चढ़ाई के बाद के बाद कैंप में ही ठहरने का फैसला किया। 
PunjabKesari

तीन आैर पर्वत शिखरों की चढ़ाई करेंगे
5609 मीटर की चढ़ाई के बाद माउंट दामावंद की चोटी के नजदीक सल्फर का हानिकारक रिसाव होता है, जो ज्यादा देर तक संपर्क रहने से व्यक्ति को कभी भी ठीक न होने वाला नुकसान पहुंचा सकती है। टीम को सल्फर से जुड़े हानिकारक प्रभाव को टालने के लिए बहुत थोड़े समय में चोटी की चढ़ाई करनी पड़ी। 35 साल के सत्यरूप जनवरी 2019 में तीन अन्य ज्वालामुखी पर्वत शिखरों की चढ़ाई करेंगे।  एक अनुभवी पर्वतारोही होने के अलावा सत्यरूप प्रतिष्ठित विश्व रेकॉर्ड बनाने की कगार पर है। वह सामाजिक कार्यकर्ता, पर्यावरणविद और प्रेरक शखस्यित हैं। एशिया के सबसे ऊंचे ज्वालामुखी माउंट दामावंद की चोटी तक पहुंचने की कठिन यात्रा में सिद्धांत ने दो बंगाली महिलाओं की टीम का नेतृत्व किया।
PunjabKesari

आखिरी हिस्से की चढ़ाई 6 दिनों में तय की
सत्यरूप ने न केवल माउंट एवरेस्ट की चोटी पर तिरंगा फहराया है, बल्कि वह दक्षिणी ध्रुव के आखिरी छोर तक भी पहुंचे हैं। उन्होंने साउथ पोल के आखिरी हिस्से की 111 किलोमीटर की चढ़ाई महज 6 दिनों में की थी। वह दुनिया के सातों महाद्वीपों में सात चोटियों पर तिरंगा फहराकर अपने देश का नाम रोशन कर चुके हैं। सत्यरूप यह उपलब्धि हासिल करने वाले पांचवें भारतीय नागरिक हैं। सात महाद्वीपों की सात सबसे ऊंची पर्वत चोटियों ‘सेवन समिट्स‘ की चढ़ाई सत्यरूप ने पूरी की थी, जिनमें किलिमंजारो, विन्सन, मैसिफ,कॉसक्यूजको, कार्सटेन्सज पिरामिड, एवरेस्ट, एलब्रुस और माउंट मैककिनले शामिल हैं।  
PunjabKesari

अब वह दुनिया के हर महाद्वीप में सात ज्वालामुखी पर्वतों पर चढ़ाई पूरी करने के आखिरी चरण में है। अगर सत्यरूप सफल रहे तो वह सात ज्वालामुखी पर्वतों पर तिरंगा फहराने वाले सबसे कम उम्र के व्यक्ति होंगे। माउंट सिडले, माउंट गिलुवे, माउंट दमावंद, पिको डि ओरिजाबा, माउंट एल्बुरस, माउंट किलिमंजारो, ओजोस डेल सलाडो ये सात ज्वालामुखी पर्वत है। नवंबर में सत्यरूप दो ज्वालामुखी पर्वतों की चढ़ाई करेंगे। आखिर में जनवरी 2019 में वह माउंट सिडले की चढ़ाई करेंगे। इसी के साथ उनका सात ज्वालामुखी पर्वतों पर तिरंगा फहराने का सपना पूरा होगा। सत्यरूप के आगामी पर्वतारोहण अभियानों में माउंट गिलुवे (ओशनिया) माउंट पिको डि ओरिजाबा (मैक्सिको) और माउंट सिडले (अंटाकर्टिका) शामिल हैं। 


 

.
.
.
.
.