Sports

स्पोर्ट्स डेस्क: कहते हैं ऊपर वाला जब भी देता है तो छप्पर फाड़ कर देता है। ये कहावत आज पंजाब के उन खिलाड़ियों पर सटीक बैठ रही है, जिन्होंने इस साल के एशियाई खेलों और कॉमनवेल्थ गेम्स में मेडल हासिल किए। एशियाई पदक विजेता पंजाब के विजेता खिलाड़ियों की कैप्टन सरकार ने बल्ले-बल्ले करवा दी है या यूं कहें कि पदक विजेताओं पर खूब धनवर्षा होने वाली है। बता दें कि पंजाब सरकार ने पदक विजेताओं को दी जाने वाली नगद राशि 3 गुणा करने का फैसला किया है और इसकी जानकारी पंजाब के खेल मंत्री ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर दी।

विजेता खिलाड़ियों पर होगी धनवर्षा

PunjabKesari

कैप्टन सरकार के इस फैसले के मुताबिक अब एशियाई खेलों में गोल्ड विजेता को 1 करोड़ की नगद राशि दी जाएगी। बता दें कि सरकार ने एशियाई, कॉमनवेल्थ और पैरा स्पोर्ट्स के पदक विजेताओं को दी जाने वाली नगद पुरस्कार राशि में 3 गुणा बढ़ोत्तरी का अच्छा और हितकारी फैसला लिया है।

अब इतनी मिलेगी ईनामी राशि

पंजाब सरकार के खिलाड़ियों के हित में लिए गए फैसले के मुताबिक अब एशियाई खेलों में गोल्ड, सिल्वर और ब्रॉन्ज मेडल विजेताओं को क्रमवार 1 करोड़ रुपए, 75 लाख रुपए और 50 लाख रुपए की पुरस्कार राशि दी जाएगी।

11 अक्टूबर को होगा सम्मान समारोह

खेल मंत्री ने बताया कि खेल विभाग की ओर से 11 अक्टूबर को चंडीगढ़ में विशेष समारोह रखा गया है, जिसमें जकार्ता एशियाई खेल और गोल्ड कोस्ट कॉमनवेल्थ गेम्स के पंजाब के पदक विजेताओं को बढ़ी हुई ईनामी राशि से सम्मानित किया जाएगा।

नवंबर में 814 खिलाड़ियों को मिलेगा नगद पुरस्कार

खेल मंत्री ने बताया कि पिछले 6 साल से राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय मुकाबलों के पदक विजेताओं को दी जाने वाली ईनामी राशि और महाराजा रणजीत सिंह अवार्ड बकाया हैं, जिन्हें अब कैप्टन सरकार ने देने का फ़ैसला किया है। उन्होंने बताया कि नवंबर में 814 खिलाड़ियों को नगद पुरस्कार दिए जाएंगे और महाराजा रणजीत सिंह अवार्ड भी दिए जाएंगे

नौकरी ना होने पर एकमुश्त तनख्वाह

प्रेस कॉन्फ्रेंस में जानकारी देते हुए खेल मंत्री ने बताया कि पदक विजेताओं को सीधे नौकरी पर भर्ती करना भी खेल नीति का हिस्सा है। 25 साल से कम उम्र के पदक विजेता खिलाड़ियों के पास नौकरी ना होने पर उन्हें सीधे एकमुश्त तनख्वाह पर रखा जाएगा।

पदक विजेताओं की पेंशन में भी इजाफा

उन्होंने बताया कि सरकार ने इसके साथ ही मेडल विजेताओं को मिलने वाली पेंशन में भी इजाफा करने का फैसला किया है। उन्होंने कहा कि सरकार की ओर से ओलंपिक पदक विजेताओं को 15 हजार रुपए, एशियाई और कॉमनवेल्थ गेम्स में पदक विजेताओं को 7500 रुपए और राष्ट्रीय खेलों में पदक विजेताओं को 5 हजार रुपए की पेंशन दी जाएगी।

खिलाड़ियों का होगा मुफ्त स्वास्थ्य जीवन बीमा

PunjabKesari

उन्होंने कहा कि अवार्ड विजेताओं का 1 लाख रुपए का मुफ्त स्वास्थ्य जीवन बीमा भी किया जाएगा। खिलाड़ियों के प्रशिक्षण पर भी ध्यान दिया जा रहा है। साथ ही उन्होंने बताया कि प्रशिक्षकों को प्रेरित करने के लिए भी सरकार ने फैसला लिया है। ओलंपिक, एशियाई, कॉमनवेल्थ गेम्स और विश्व चैंपियनशिप्स में पदक विजेताओं को प्रशिक्षण देने वालों को भी सरकार नगद ईनाम देगी।

नई खेल नीति से खिलाड़ियों को मिलेगा प्रोत्साहन

खेल मंत्री ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, कि नई खेल नीति से राज्य में खेल के लिए ना केवल रचनात्मक माहौल पैदा होगा बल्कि ईनामी राशि में की गई बढ़ोत्तरी से खिलाड़ियों का मनोबल भी बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि नई खेल नीति के आगामी टोक्यो ओलंपिक खेलों में सार्थक नतीजे सामने आएंगे। वहीं उन्होंने कहा कि पिछली सरकार की 2010 में बनाई खेल नीति में समय अनुसार बदलाव करने की जरूरत थी, जिसे उनकी सरकार ने समय रहते पूरा किया।

.
.
.
.
.