Sports

नई दिल्ली : 2019 के ग्रैंड स्लैम आस्ट्रेलियन ओपन के बॉल किड्स के लिए ऑडिशन चल रहे हैं। इसके तहत आरके खन्ना स्टेडियम में देश भर से आए 100 युवा टेनिस प्रशंसकों ने कठिन ऑडिशन दिया। 12 से 15 साल के इन बच्चों को मेलबोर्न में होने वाली इस प्रतिष्ठित टेनिस प्रतियोगिता के लिए जरूरी मानकों का प्रदर्शन करना पड़ेगा। ऑडिशन में बच्चों ने बॉल कलेक्ंिटग और बॉल रोलिंग क्षमता का प्रदर्शन किया। इन खिलाडिय़ों को यह भी दिखाना था कि ब्रेक के दौरान ये खिलाडिय़ों का किस तरह के ख्याल रख सकते हैं।

PunjabKesari

भारत की डेविस कप टीम के कप्तान महेश भूपति ने इन 100 प्रशंसकों (लड़के तथा लड़कियां) को गौर से देखा। इन 100 प्रशंसकों का चयन चार महानगरों में आयोजित ट्रॉयल के माध्यम से किया गया है। इनमें से 10 का चयन अंतिम रूप से आस्ट्रेलियन ओपन बॉल किड्स के रूप में चयन होगा। इस पहल की शुरुआत 10 नवंबर को की गई थी। इसमें चार महानगरों से 1800 प्रशंसकों ने अपने सपने को पूरा करने के लिए हिस्सा लिया। जो बच्चे आस्ट्रेलियन ओपन बॉल किड्स के रूप में चुने जाएंगे, उनका पूरा खर्च किया मोटर्स वहन करेगा। 

PunjabKesari

भूपति ने कहा- मेरी नजर में इस तरह की पहल देश में टेनिस संस्कृति पैदा करने की दिशा में एक अहम कदम हो सकती है। इस साल हमने हर मेट्रो से 500 से 600 बच्चों को आगे आते हुए देखा है। अगले साल यह संख्या 1000 तक जा सकती है। चुने गए बच्चे न सिर्फ मेलबर्न की यात्रा करेंगे बल्कि कई महान खिलाडिय़ों के साथ कोर्ट साझा करेंगे। यह इन बच्चों के लिए एक महान पल होगा। जॉन मैकनरो और रोजर फेडरर जैसे टेनिस के कुछ महान खिलाडिय़ों ने ग्रैंड स्लैम प्रतियोगिताओं के दौरान बॉल किड्स की भूमिका अदा की थी और फिर आगे जाकर महान खिलाड़ी बने।

.
.
.
.
.