Sports

बर्मिंघम: जॉनी बेयरस्टो जानते हैं कि गुस्से पर कैसे नियंत्रण करना है लेकिन वह गलत तरीके से पेश किए गए अपने बयान को बदलने का इरादा नहीं रखते क्योंकि 24 घंटे के बाद यह खबर अप्रासंगिक हो गई है। ब्रिटिश मीडिया में बेयरस्टो के हवाले से कहा गया था कि ‘आलोचक हमारी हार चाहते हैं।' और कुछ को इसके लिए पैसा मिलता है। रिपोर्टों में कहा गया था कि उनके निशाने पर दो पूर्व कप्तान माइकल वान और केविन पीटरसन थे। बेयरस्टो ने शतक जड़कर इसका जवाब दिया और फिर मीडिया को आड़े हाथों लिया।

PunjabKesari
बेयरस्टो ने कहा, ‘देखिए मैं यह नहीं कह रहा हूं कि मैं चाहता हूं कि हर कोई आकर मुझे अपशब्द कहे। किसी भी तरह से मैं ऐसा नहीं कह रहा हूं। मैंने कभी ऐसा नहीं कहा था कि लोग हमारे साथ नहीं है। वह इंटरव्यू (संवाददाता सम्मेलन) जब हुआ तो छह, आठ या दस पत्रकार थे और वह बेहद उत्साहजनक और सहज माहौल में हुआ था। उसे जिस तरह से पेश किया गया वह निराशाजनक था।' उन्होंने कहा, ‘लेकिन जो बीत गया उसमें आप कुछ बदल नहीं सकते। कहावत भी है कि कल की खबर आज के लिए अप्रासंगिक हो जाती है।'
 

.
.
.
.
.