Sports

लखनऊः खेल के हर विभाग में ईस्टर्न रेलवे कोलकाता को पछाड़ते हुए इण्डियन एयरफोर्स ने 38वीं अखिल भारतीय बाबू हॉकी टूर्नामेंट में रविवार को लगातार दूसरी जीत हासिल की वहीं कैग दिल्ली और इंडियन आयल ने अपने अपने मुकाबले जीते।  पद्मश्री मो शाहिद सिन्थेटिक हाकी स्टेडियम पर खेले गए पहले मैच में इंडियन एयरफोर्स के खिलाडियों ने तेज तर्राक हाकी का मुजाहिरा करते हुए मैच के शुरू से ही अपनी पकड़ बना ली। एयरफोर्स ने शानदार मूव बनाते हुये एक के बाद एक हमले रेलवे पर किये और इकतरफा मुकाबले को 5-1 से अपने नाम कर लिया। बाद मे दो अन्य मुकाबले में कैग दिल्ली ने साई भोपाल को 5-1 से पराजित किया जबकि इण्डियन आयल दिल्ली ने एनसीआर इलाहाबाद को 6-2 से पराजित किया।  

मैच के नौवें मिनट में इण्डियन एयरफोर्स के नवदीप सिंह ने पेनाल्टी कार्नर के जरिये टीम को 1-0 की बढत दिलायी जिसके बाद 27वें मिनट में आनन्द लाकरा, 33वें मिनट में मेजर सिंह, 50वें मिनट में दमनजीत सिंह ने गोल दाग कर टीम की जीत लगभग पक्की कर दी। जवाब में ईस्टर्न रेलवे कोलकाता की ओर से 54वें मिनट में दीपक कालू ने पेनाल्टी कार्नर से एक गोल कर हार के अंतर को कम करने की कोशिश की हालांकि सात मिनट बाद ही एयर फोर्स के मेजर सिंह ने शानदार फील्ड गोलकर हारजीत के फासले को फिर बढा दिया जो आखिर तक कायम रहा।  साई भोपाल के खिलाफ मैच के 10वें मिनट में कैग दिल्ली के इमरान खान सीनियर और मनीष यादव ने दो दो फील्डगोल दागे जबकि चंदन सिंह ने पेनाल्टी कार्नर को गोल में तब्दील कर दिया जबकि साई भोपाल की ओर से एकमात्र गोल मनीष शर्मा ने पेनाल्टी कार्नर के जरिये किया।  इण्डियन आयल दिल्ली ने इकतरफा मुकाबले में एन0सी0आर0इलाहाबाद को 6-2 से पटकनी दी। 

विजेता टीम की ओर से रोशन मिन्ज,तलविन्दर सिंह ने एक-एक फील्डगोल अपनी टीम का स्कोर 2-0 से आगे कर दिया, जिसके जवाब में एन.सी.आर.इलाहाबाद की ओर से मैच के 18वें मिनट में पवन मलिक ने पेनाल्टी कार्नर से एक गोल कर अपनी टीम का स्कोर 1-2 कर दिया। जवाब में इण्डियन आयल विकास शर्मा, 33वें मिनट में भरत चिकारा, 49वें मिनट में तरणदीप सिंह ने एक-एक फील्डगोल कर अपनी टीम का स्कोर 5-1 से आगे कर दिया। एनसीआर इलाहाबाद के पवन मलिक ने पेनाल्टी कार्नर कर अपनी टीम का स्कोर 2-5 कर दिया। मैच के अन्तिम मिनट में इण्डियन आयल दिल्ली की ओर गुरजिन्दर सिंह ने शानदार फील्डगोल कर अपनी टीम को 6-2 से विजयी दिला दी। 

.
.
.
.
.