Sports

नई दिल्लीः भारत के अंकुर मित्तल ने कोरिया के चांगवान में चल रहे 52वें आईएसएसएफ विश्व निशानेबाजी चैंपियनशिप में शनिवार को शूटऑफ में पुरूष डबल ट्रैप स्पर्धा का खिताब अपने नाम कर लिया। अंकुर ने शूटऑफ में 150 में से 140 के स्कोर के साथ चीन के यियांग यांग और स्लोवाकिया के हुबर्ट आंद्रेज को पीछे छोड़ा, उन्होंने फिर चीनी खिलाड़ी को 4-3 से हराते हुए स्वर्ण अपने नाम किया। स्लोवाकियाई निशानेबाज दूसरे टारगेट को चूक गए जिससे उन्हें कांस्य से संतोष करना पड़ा। भारतीय निशानेबाज ने साथ ही पुरूषों की टीम स्पर्धा का कांस्य भी अपने नाम किया। अंकुर के साथ मोहम्मद असाद और शार्दुल विहान की टीम ने 409 अंकों के साथ तीसरा पायदान हासिल करते हुये कांस्य जीता। चीनी टीम को 410 अंकों के साथ रजत और इटली की टीम को 411 अंकों के साथ स्वर्ण मिला। 

दिन की अन्य स्पर्धाओं में दो भारतीय महिलाएं हालांकि करीब से फाइनल में जगह नहीं बना सकीं। चैंपियनशिप में रजत पदक के साथ 2020 टोक्यो ओलंपिक का कोटा दिलाने वाली अंजुम मुद्गिल 50 मीटर राइफल थ्री पोजिशन स्पर्धा में 1170 के स्कोर के साथ क्वालिफिकेशन में नौवें नंबर पर रहीं जबकि आठ खिलाड़ियों ने फाइनल में जगह बनाई। अंजुम ने स्विट्जरलैंड की नीना क्रिस्टन के बराबर ही स्कोर पाया लेकिन स्विस खिलाड़ी के 10 इनर शॉट्स का 66 का स्कोर अंजुम के 56 इनर 10 से अधिक था जिससे नीना को फाइनल में प्रवेश मिल गया। मनु भाकर ने महिलाओं की 25 मीटर पिस्टल स्पर्धा में 584 के स्कोर के साथ 10वां पायदान हासिल किया। 
PunjabKesari

वह क्वालिफिकेशन के दूसरे रैपिड फायर राउंड में मनु सिंगापुर की शियु होंग तेह, कतर की अलदाना साद अलमुबराक और 10 मीटर एयर पिस्टल में ओलंपिक एवं विश्व चैंपियन यूनान की एना कोरावाकी के बराबर थीं लेकिन सिंगापुर और कतर की निशानेबाजों ने 22 और 21 इनर 10 के साथ फाइनल में जगह बना ली जबकि मनु का स्कोर 16 रहा।  मिश्रित जूनियर ट्रैप टीम में भारत की मनीषा कीर और मानवादित्य सिंह राठौर ने 139 के स्कोर के साथ दूसरे स्थान पर रहकर छह टीमों के फाइनल में जगह बना ली। हालांकि फाइनल में भारतीय टीम कुल 24 के स्कोर के साथ चौथे नंबर पर रहकर पदक से चूक गई। इटली की टीम ने जूनियर विश्व रिकार्ड स्कोर 42 के साथ स्वर्ण जीता। सातवें दिन के बाद विश्व चैंपियनशिप में भारत के पास सात स्वर्ण, सात रजत और छह कांस्य सहित कुल 20 पदक हैं। इसके अलावा उसने दो ओलंपिक कोटा भी हासिल किये हैं जो आईएसएसएफ विश्व चैंपियनशिप में उसका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है।