Sports

बर्मिंघम: सायना नेहवाल और किदाम्बी श्रीकांत की शुक्रवार को क्वार्टरफाइनल में हार के साथ प्रतिष्ठित ऑल इंग्लैंड बैडमिंटन चैंपियनशिप में भारत की चुनौती समाप्त हो गयी और इसके साथ ही भारत का पिछले 18 वर्षों में एक अदद आल इंग्लैंड खिताब का सपना फिर टूट गया। सायना और श्रीकांत का क्वार्टरफाइनल में शीर्ष वरीय खिलाडिय़ों से सामना हो गया और दोनों भारतीय खिलाडिय़ों को लगातार गेमों में पराजय का सामना करना पड़ा।

PunjabKesari
सायना एक बार फिर ताइपे की तेई जू यिंग की बाधा को पार नहीं कर पायी। आठवीं वरीयता प्राप्त सायना को टॉप सीड जू यिंग ने 37 मिनट में 21-15, 21-19 से पराजित किया जबकि सातवीं सीड श्रीकांत को टॉप सीड जापान के केंतो मोमोता ने 44 मिनट में 21-12 21-16 से हराया। जू यिंग ने पिछले साल भी सायना को पहले दौर में लगातार गेमों में हराया था। जू यिंग इस जीत के साथ महिला एकल के सेमीफाइनल में पहुंच गईं।

सायना और जू यिंग के बीच यह 20वां मुकाबला था और ताइपे की खिलाड़ी ने इस जीत के साथ भारतीय खिलाड़ी के खिलाफ अपना रिकॉर्ड 15-5 कर लिया है। सायना पिछले छह वर्षों में एक बार भी जू यिंग को हरा नहीं पायी है। सायना ने जू यिंग से अपने पिछले 13 मुकाबले गंवाए हैं। इस दौरान जू यिंग ने सायना को 2016, 2018 और 2019 की ऑल इंग्लैंड चैंपियनशिप में हराया। 

.
.
.
.
.