Sports

भुवनेश्वर: विश्व कप में 43 साल बाद पदक जीतने का सपना लेकर उतरी भारतीय हाॅकी टीम के सामने गुरूवार को क्वार्टर फाइनल में नीदरलैंड के रूप में कड़ी चुनौती होगी जो पिछले दो मैचों में दस गोल करके अपने आक्रामक तेवर जाहिर कर चुका है। विश्व रैंकिंग में नीदरलैंड से एक पायदान नीचे पांचवें स्थान पर काबिज भारत ने पूल सी में तीन मैचों में दो जीत और एक ड्राॅ के बाद शीर्ष पर रहकर अंतिम आठ में जगह बनाई । वहीं नीदरलैंड पूल डी में दूसरे स्थान पर रहकर क्रासओवर खेला और कनाडा को पांच गोल से रौंदकर क्वार्टर फाइनल में पहुंचा ।

फैंस को इंतजार भारत की एक और जीत का
 Sports news, Hockey news in hindi, hockey world cup 2018, Netherlands, Aggressive Dutch challenge, knockout against, Indian hockey team , mens hockey, field hockey

खचाखच भरे रहने वाले कलिंगा स्टेडियम में दर्शकों को इंतजार भारत की एक और शानदार जीत के साथ पदक के करीब पहुंचने का है। आखिरी लीग मैच आठ दिसंबर को खेलने वाली भारतीय टीम चार दिन के ब्रेक के बाद उतरेगी। कोच हरेंद्र सिंह के मुताबिक असली टूर्नामेंट की शुरूआत नाकआउट से होगी और उनकी टीम डच चुनौती का सामना करने के लिए तैयार है। उन्होंने कहा था, ‘हम आक्रामक हाकी खेल रहे हैं और इसमें कोई बदलाव नहीं होगा। हमें बड़ी टीमों के खिलाफ अच्छा खेलने का अनुभव है और नीदरलैंड को भी हम हरा सकते हैं। यह टीम बड़ी टीमों के रसूख से खौफ खाने वालों में से नहीं है और मुझे यकीन है कि हम इस बार विश्व कप से खाली हाथ नहीं लौटेंगे।’ 

नाॅकआउट के लिए सीधे क्वालीफाई किया 
Sports news, Hockey news in hindi, hockey world cup 2018, Netherlands, Aggressive Dutch challenge, knockout against, Indian hockey team , mens hockey, field hockey
कोच के आत्मविश्वास की वजह भारतीय टीम का पूल चरण में प्रदर्शन है जिसमें दुनिया की तीसरे नंबर की टीम बेल्जियम के रहते भारत ने पहले स्थान पर रहकर नाकआउट के लिए सीधे क्वालीफाई किया। दक्षिण अफ्रीका को पांच गोल से हराया जबकि कनाडा को 5-1 से शिकस्त दी। बेल्जियम को आखिरी चार मिनट में गोल गंवाने के बाद 2-2 से ड्रा खेलना पड़ा। सिमरनजीत सिंह, ललित उपाध्याय, मनदीप सिंह और ओडिशा के ड्रैग फ्लिकर अमित रोहिदास समेत भारतीय खिलाडिय़ों ने अभी तक अच्छा प्रदर्शन किया। डिफेंस में कुछ मौकों को छोड़कर भारतीयों ने निराश नहीं किया लेकिन डच खिलाडिय़ों को मौके देने से बचना होगा । खासकर डिफेंस को आखिरी मिनटों में दबाव के आगे ढीले पडऩे की कमजोरी से पार पाना होगा। 

नीदरलैंड ने अभी तक टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा 18 गोल 
Sports news, Hockey news in hindi, hockey world cup 2018, Netherlands, Aggressive Dutch challenge, knockout against, Indian hockey team , mens hockey, field hockey
दूसरी ओर नीदरलैंड ने अभी तक टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा 18 गोल किए हैं। उसने पूल चरण में मलेशिया को 7-0 से और पाकिस्तान को 5-1 से हराया हालांकि जर्मनी से 1-4 से पराजय झेलनी पड़ी।  डच कोच मैक्स केलडास ने स्वीकार किया कि कलिंगा स्टेडियम पर बड़े मैच में भारत को हराना चुनौतीपूर्ण होगा लेकिन कहा कि उन्हें इसका अनुभव है और खिलाड़ी इसके लिए तैयार हैं । लंदन ओलंपिक 2012 और विश्व कप 2014 में नीदरलैंड की महिला हाॅकी टीम को स्वर्ण पदक दिला चुके कोच ने कहा, ‘हमें भरे हुए मैदानों में खेलने की आदत है और हम भारत को पहले भी हरा चुके हैं लिहाजा दर्शकों का मेजबान टीम को समर्थन हमारे लिए कोई मसला नहीं है। हम अपने खेल पर फोकस करेंगे और जीतेंगे।’
Sports news, Hockey news in hindi, hockey world cup 2018, Netherlands, Aggressive Dutch challenge, knockout against, Indian hockey team , mens hockey, field hockey
भारतीय टीम ने पिछले कुछ अर्से में नीदरलैंड के खिलाफ अपना रिकाॅर्ड सुधारा है और पिछले नौ मैचों में दोनों ने चार चार जीते और एक ड्राॅ रहा। वैसे विश्व कप में दोनों टीमों का सामना छह बार हुआ और सभी छह मैच नीदरलैंड ने जीते। टूर्नामेंट में 1971 से अब तक भारत सिर्फ एक बार 1975 में खिताब जीत सका है और उसके बाद से उसका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 1994 में रहा जब टीम पांचवें स्थान पर रही थी। वहीं टूर्नामेंट की सबसे सफल टीमों में से एक पिछली उपविजेता नीदरलैंड ने तीन बार (1973, 1990, 1998) में खिताब जीता है। गुरुवार को ही एक अन्य क्वार्टर फाइनल में जर्मनी का सामना बेल्जियम से होगा ।

.
.
.
.
.