Sports

नई दिल्ली: पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व विस्फोटक बल्लेबाज शाहिद अफरीदी के खेलने के अंदाज से हर कोई वाकिफ है। जब वह मैदान पर चाैके-छक्के बरसाते थे तो गेंदबाजों की नींद उड़ जाती थी। उनके जैसा विस्फोटक बल्लेबाज पाकिस्तान को आने वाले समय में शायद ही मिले। लेकिन बल्लेबाजी के अलावा अफरीदी गेंदबाजी में भी काफी घातक साबित होते थे। उन्होंने कई माैकों पर विरोधी बल्लेबाजों को आउट कर टीम को जीत दिलाई, पर वनडे क्रिकेट में 395 विकेट लेने वाले अफरीदी एक भारतीय क्रिकेटर से खाैफ खाते थे। उन्हें डर लगता था कि कहीं छक्का ना पड़ जाए। यह भारतीय क्रिकेटर कोई आैर नहीं, बल्कि वीरेंद्र सहवाग हैं।

PunjabKesari
अफरीदी ने एक वेबसाइट से खास बातचीत करते हुए बताया कि उन्हें सहवाग को गेंद करते समय हिचकिचाहट महसूस होती थी। अफरीदी ने कहा, "सहवाग के सामने गेंदबाजी करना बेहद मुश्किल होता था। वह टॉप के गेंदबाजों की भी जमकर धुनाई किया करते और उनकी लाइन लेंथ बिगाड़ देते थे।"
PunjabKesari
सहवाग की तरह अफरीदी भी विस्फोटक बल्लेबाजी के लिए जाने जाते थे। सहवाग भी अपनी फिरकी पर कई बार बल्लेबाजों को नचाते थे तो अफरीदी एक मंजे हुए ऑलराउंडर थे। अफरीदी की फिरकी के आगे अच्छे-अच्छे बल्लेबाजों ने घुटने टेके हैं, लेकिन इस दिग्गज ने कहा कि वह सहवाग को गेंदबाजी करने से कतराते थे। अफरीदी ने कहा, "वैसे तो मुझे कभी किसी खिलाड़ी से डर नहीं लगा, लेकिन मैं वीरेंद्र सहवाग को गेंदबाजी करने से हमेशा कतराता था। उन्हें गेंदबाजी करना मुश्किल होता था।"
PunjabKesari
अफरीदी ने अागे कहा कि सहवाग के खेलने का जो ढंग हैं, वो सब खिलाडियों से अलग देखने को मिलता है। अगर वह पिच पर ज्यादा समय तक टिक जाते तो फिर किसी भी गेंदबाज के लिए उन्हें रोकना मुश्किल हो जाता था। सहवाग के सामने अच्छे-अच्छे गेंदबाज हार मान जाते थे। अगर वह किसी गेंदबाज के खिलाफ शॉट खेलना शुरू करते तो वह सिलसिला पूरा ओवर बरकरार रहता अौर ओवर में छक्के-चौके देखने को मिलते थे। ऐसे में, गेंदबाजों के लिए खुद को बचाना बेहद मुश्किल हो जाता था।

.
.
.
.
.