Sports

जालन्धर (जसमीत सिंह) : दुनिया के धाकड़ बल्लेबाजों में से एक एबी डीविलियर्स 35 साल के हो गए हैं। उन्हें मिस्टर 369 डिग्री भी कहा जाता है। यह नाम किसी और ने नहीं बल्कि उनके क्रिकेट प्रशंसकों द्वारा ही उन्हें दिया गया है। इस नाम के पीछे एक तर्क यह है कि खेलते समय वह मैदान के चारों कोनों में शॉट मारने में सक्षम है तो एक तर्क यह भी है कि वह अपनी निजी जिंदगी में हरफनमौला रहे हैं, मसलन- फुटबॉल में चैपिंयन, रग्बी-हॉकी के नैशनल लेवल के खिलाड़ी, बेस्ट स्विमर आदि। लेकिन अब जब वह क्रिकेट से रिटायर हो गए हैं तो इन दावों की धीरे-धीरे परतें खुलने लगी हैं। अब कहा जा रहा है- डीविलियर्स के बारे में फैलाई गई ज्यादातर बातें झूठी हैं। जिन लोगों ने यह अफवाहें फैलाई वह तो डीविलियर्स के बड़े प्रशंसक हो सकते हैं या फिर पब्लिसिटी स्टंट। बहरहाल जानिए डीविलियर्स की सच्चाई। वह क्या है और क्या बनाकर पेश किए गए।

डीविलियर्स के बारे में फैलाए गए कुछ दावे जिनकी अब हवा निकल चुकी है

PunjabKesari
बैडमिंटन स्टार रहे :
डीविलियर्स अंडर-19 वर्ग के तहत कई जगह विभिन्न टूर्नामैंट खेले हैं। जबकि इसकी असलियत डीविलियर्स ने खुद एक इंटरव्यू में खोली थी। उन्होंने कहा था कि मैंने सिर्फ एक बार बैडमिंटन खेला है वह भी मेरे साथी मार्क बाउचर के साथ।

सबसे बड़ा झूठ : एक बार डीविलियर्स ने इंटरव्यू में बताया था कि उन्होंने कहीं खबर पढ़ी थी जिसमें दावा किया गया था कि उसैन बोल्ट कह रहे हैं कि जिस रफ्तार से डीविलियर्स भागते हैं, वह 100 मीटर दौड़ में उन्हें पीछे छोड़ सकते हैं। डीविलियर्स ने इस बात को सिरे से खारिज करते हुए कहा था कि नहीं जानता वह कौन लोग हैं जो इस तरह की बातें उड़ा देते हैं।

रग्बी चैंपियन : डीविलियर्स बहुत पहले साफ कर चुके हैं, स्कूल स्तर में बाकी बच्चों की तरह उन्होंने भी रग्बी पर हाथ आजमाया। खास तौर पर प्राइमरी और हाई स्कूल तक। लेकिन यह गेम उनकी स्कूल स्तर तक ही रही। वह कभी किसी बड़े टूर्नामैंट में नहीं खेले।
PunjabKesari
फुटबॉल स्टार : डीविलियर्स का ऐसा कोई रिकॉर्ड नहीं है कि जो साबित करे कि उन्होंने कभी क्लब स्तर पर भी कोई फुटबॉल मैच खेला हो। हां, यह जरूर है कि कॉलेज स्तर पर वह वार्मअप के लिए कभी-कभार फुटबॉल खेल लिया करते थे।

बैस्ट स्विमर : डिविलियर्स के बारे में यह भी अफवाह फैली थी कि स्कूल स्तर पर उन्होंने स्विमिंग में कई नैशनल रिकॉर्ड तोड़े हैं जबकि सच्चाई यह है कि डीविलियर्स जब नौ साल के थे तब उन्होंने स्कूल स्तरीय ब्रेस्टस्ट्रोक स्वीमिंग मुकाबले में रिकॉर्ड बनाया था। लेकिन कभी बड़े टूर्नामैंट में उन्होंने हिस्सा नहीं लिया।

हॉकी : हां, डीविलियर्स ने हॉकी जरूर खेली है लेकिन वह भी हाई स्कूल में। उन दिनों उनके स्कूल में हॉकी के मुकाबले हुए थे। ऐसे में डीविलियर्स को भी टीम में शमिल कर लिया गया। यह झूठ है कि वह नेशनल टीम के लिए कभी चुने गए। 
PunjabKesari
कोई साइंस मैडल नहीं मिला : डीविलियर्स के बारे में एक अफवाह यह भी फैलाई जाती है कि साइंस में उनका दिमाग बड़ा तेज है, मसलन उन्हें साइंस के एक प्रोजेक्ट के लिए नेल्सन मंडेला से मैडल भी मिल चुका है। लेकिन असलियत में यह सब कोरी अफवाह है। डीविलियर्स को कभी ऐसा मेडल नहीं मिला।

.
.
.
.
.