Sports

स्पोट्र्स डैस्क : एशियाई गेम्स ने भारत को नए चैम्पियन दिए हैं। गेम शुरू होने से पहले कई गोल्ड विजेता ने नाम वापस ले लिए थे लेकिन नए खिलाडिय़ों ने भारत को निराश नहीं होने दिया। उधर, यूएस ओपन में बड़ा ऊलटफेर हो गया है। वहीं, रवि शास्त्री बॉलीवुड एक्ट्रैस के साथ डेटिंग पर खुलकर बोले हैं। पंजाब केसरी स्पोट्र्स डेस्क आपके लिए लाए हैं ऐसी खबरें जो आप अपने व्यस्त शैड्यूल के चलते मिस कर जाते हैं। इस न्यूज बुलेटिन में हम आपको खेल जगत से जुड़ीं अब तक की बड़ी खबरों से रूबरू करवाने जा रहे हैं। पढि़ए एक क्लिक में-

US Open: 10 साल के सूखे को खत्म करने में नाकाम रहे फेडरर, शारापोवा भी बाहर

Sports

दुनिया के पूर्व नंबर एक खिलाड़ी रोजर फेडरर और मारिया शारापोवा मंगलवार को यहां अपने अपने मुकाबले हारकर अमेरिकी ओपन टेनिस टूर्नामेंट के क्रमश: पुरुष और महिला एकल वर्ग से बाहर हो गए। पांच बार के चैंपियन फेडरर न्यूयार्क में खिताब के 10 साल के सूखे को खत्म करने में नाकाम रहे और उन्हें आस्ट्रेलिया के दुनिया के 55वें नंबर के खिलाड़ी जान मिलमैन ने 3-6, 7-5, 7-6 (9/7), 7-6 (7/3) से हराया। बीस बार के ग्रैंडस्लैम चैंपियन फेडरर की अमेरिकी ओपन के 41 मैचों में शीर्ष 50 से बाहर के खिलाड़ी के खिलाफ यह पहली हार है।  फेडरर को हालांकि अपनी गलतियों का खामियाजा भुगतना पड़ा। उन्होंने 77 सहज गलतियां की और 10 डबल फाल्ट भी किए।

एक्ट्रेस निम्रत के साथ अफेयर की खबरें सुनकर कोच शास्त्री ने दिया बयान
Sports

भारतीय क्रिकेट टीम के लिए मौजूदा समय में कुछ भी अच्छा नहीं चल रहा। पहले भारतीय टीम इंग्लैंड के खिलाफ 5 टेस्ट मैचों की सीरीज में 3-1 से पिछड़कर सीरीज गंवा चुकी है तो वहीं कोच रवि शास्त्री बाॅलीवुड एक्ट्रेस निम्रत के साथ अफेयर की खबरों को लेकर चिंता में पड़े हुए हैं। एक अंग्रेजी अखबार ने दावा किया था कि शास्त्री आैर निम्रत के बीच पिछले 2 साल से अफेयर चल रहा है, लेकिन अब शास्त्री ने इसपर बयान देकर साफ कर दिया कि उनका निम्रत के साथ क्या रिश्ता है।

Video: फिर याद आए युवराज, विंडीज के इस धांसू बल्लेबाज ने ठोके लगातार 5 छक्के
Sports

क्रिकेट को अनिश्चितताओं का खेल माना जाता है। काैन से ओवर में क्या हो जाए, यह ना तो गेंदबाज जानता है आैर ना ही बल्लेबाज। कैरेबियन प्रीमियर लीग के एक मैच के दाैरान ऐसा लम्हा आया जब एक ओवर में ताबड़तोड़ छक्के लगने लगे, जिन्हें देख 'सिक्सर किंग' युवराज सिंह की फिर से याद आ गई। टूर्नामेंट का 23वां मुकाबला ट्रिनबैगो नाइट राइडर्स और सेंट किट्स एंड नेविस पैट्रिओट्स के बीच हुआ। इस दाैरान विंडीज के धांसू बल्लेबाज ड्वेन ब्रावो ने ट्रिनबैगो की तरफ से खेलते हुए सेंट किट्स के खिलाफ 1 ओवर में लगातार 5 छक्के लगाकर सबको हैरान कर दिया। 

आखिरी टेस्ट में पृथ्वी को मिल सकता है माैका, जानें किस ओपनर का कटेगा पत्ता
Sports

इंग्लैंड के खिलाफ 5 टेस्ट मैचों की सीरीज में 3-1 से पिछड़कर भारत सीरीज गंवा चुका है। चाैथे टेस्ट में भारत को 60 रनों से हार का सामना करना पड़ा आैर इसी के साथ सीरीज में बने रहने की उम्मीदें भी खत्म हो गईं। अब 5वां यानी आखिरी मुकाबला ओवल में 7 सितंबर से शुरू होगा। इम मैच में बड़ा बदलाब देखने को मिल सकता है। खबर है कि 2018 अंडर-19 वर्ल्ड कप विजेता कप्तान और युवा बल्लेबाज पृथ्वी शॉ को प्लेइंग इलेवन में जगह मिल सकती है। 

रोनाल्डो, सलाह, मोड्रिक सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी पुरस्कार लिए नामांकित, मेसी को जगह नहीं
Sports

फीफा के वर्ष के सर्वश्रेष्ठ पुरूष खिलाड़ी पुरस्कार के लिए जहां क्रिस्टियानो रोनाल्डो, लुका मोद्रिक और मोहम्मद सलाह को नामांकित किया गया वहीं लियोनल मेसी को जगह नहीं दी गई। पिछले दशक में मेसी और रोनाल्डो दोनों ने इस पुरस्कार पर दबदबा बनाए रखा था लेकिन एफसी बाॢसलोना के खिलाड़ी पिछले लगातार 11 वर्षों से शीर्ष तीन खिलाडिय़ों में शामिल होने के बाद इस साल दावेदारों की सूची से नदारद हैं। फ्रांस की विश्व कप विजेता टीम के मैनेजर डिडीयर डेशचैम्प्स, क्रोएशिया के मैनेजर ज्लात्को डालिच और रीयाल मैड्रिड के पूर्व कोच जिनेदिन जिदान को फीफा के वर्ष के सर्वश्रेष्ठ कोच के पुरस्कार के लिए नामांकित किया गया है।

Asian Games 2018: दिग्गज हारे, भारत को मिले नए चैंपियन
Sports

खेलों में भारत के लिए शूटिंग, रैसलिंग, वेटलिफ्टिंग हमेशा से मैडल जिताने वाले इवैंट रहे हैं, लेकिन मौजूदा एशियन गेम्स में इन खेलों का वर्चस्व टूटा है। पहलवान सुशील कुमार के अलावा बॉक्सिंग, वेटलिफ्टिग टीम के कई दिग्गज ढह गए। बड़ी बात यह रही कि भारत को एथलैटिक्स में नए चैंपियन खिलाड़ी मिले। नीरज चोपड़ा, तेजिंद्रपाल तूर, दुत्ती चंद, हिमा दास के अलावा अब शूटिंग में सौरभ चौधरी तो बॉक्सिंग में अमित पंघल पर अगले साल होने वाले तोक्यो ओलंपिक में मैडल लाने की जिम्मेदारी रहेगी...

गोल्ड मैडल जीतकर भी पिता का सपना पूरा नहीं कर पाए शॉटपुटर तेजिंदरपाल तूर
Sports

18वें एशियन गेम्स में भारत के लिए शॉटपुट इवैंट में रिकॉर्ड 20.75 मीटर गोला फैंकने वाले तेजिंदरपाल सिंह तूर भले ही इस प्रतिष्ठित गेम्स में गोल्ड जीत गए लेकिन इसके बावजूद वह अपने पिता का एक सपना पूरा नहीं कर पाए। दरअसल, तूर के पिता कर्म सिंह बोन कैंसर से पीड़ित थे। तूर का सपना था कि वह पिता के हाथों में अपना गोल्ड मैडल रखकर उन्हें गर्व से सिर ऊंचा करता देखें। लेकिन लगता है कि किस्मत को कुछ और ही मंजूर था। जकार्ता से दिल्ली पहुंचे तूर जब सड़क मार्ग से अपने मोगा स्थित गांव को जा रहे थे तभी रास्ते में उन्हें पता चला कि उनके पिता की मौत हो गई है।

एशियन गेम्सः इस बार निकल कर सामने आई कुछ नई कहानियां
Sports

एशियन गेम्स में इस बार कुछ नई कहानियां निकल कर सामने आई हैं। गरीबी, उम्र व निराशाओं को पार कर हौसलों के उड़ान की कहानियां। जिनका इतिहास बचपन से दर्द भरा रहा। तो आइए जानें कुछ उन खिलाड़ियों की जिंदगी से जुड़ीं दर्दभरी बातों के बारे में, जिन्होंने बुरे वक्त से निकलकर आज दुनियाभर में अपनी पहचान बना ली है... 

हमारी ओलिम्पिक खेलने की उम्मीदें खत्म नहीं हुईं : हॉकी कप्तान श्रीजेश

Sports
18वें एशियाई खेलों में कबड्डी के बाद भारत को अगर किसी खेल में निराशा हुई तो वह थी हॉकी। लीग मैचों में 76 गोल करने वाली भारतीय टीम सैमीफाइनल में जब मलेशिया से भिड़ी तो अपनी एकाग्रता गंवाते हुए मैच भी 6-7 से गंवा बैठी। कहा जा रहा था कि भारत अगर एशियाई खेलों में गोल्ड लाता तो ही उसके लिए ओलिम्पिक का रास्ता खुलना था लेकिन भारतीय हॉकी टीम के कप्तान पी श्रीजेश ने ऐसे तमाम कयासों को सिरे से खारिज करते हुए कहा है कि उनकी टीम की ओलिम्पिक खेलने की उम्मीदें खत्म नहीं हुई हैं। हालांकि हॉकी कप्तान को यह भी लगता है कि कांस्य पदक और पाकिस्तान के खिलाफ जीत से एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक ना जीतने का दर्द कम नहीं हो सकता।

चोटिल न होती तो मैं और अंक बना सकती थी : स्वप्ना

Sports

स्वप्ना बर्मन एशियाई खेलों की हेप्टाथलन में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय हैं लेकिन इस खिलाड़ी का मानना है कि वह कुछ स्पर्धाओं में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन नहीं कर सकी जिससे अंत में मुकाबला रोचक हो गया। इक्कीस साल की इस खिलाड़ी ने कहा- मैं ऊंची कूद, 200 मीटर, 100 मीटर बाधा दौड़ और 800 मीटर में अपना सर्वश्रेष्ठ नहीं कर सकी। ऊंची कूद ऐसा खेल है जिसमें मैं सर्वश्रेष्ठ करती हूं लेकिन जकार्ता में ऐसा नहीं हुआ। मेरी किस्मत अच्छी थी की भाला फेंक में मैंने अच्छा प्रदर्शन किया जिससे उसकी भरपाई हो गई। हेप्टाथलन में इसके अलावा गोला फेंक और लंबी कूद स्पर्धा भी शामिल है।

 

.
.
.
.
.