Sports

स्पोट्र्स डैस्क : भारत ने वैस्टइंडीज के खिलाफ राजकोट में हुआ पहला टैस्ट जीत तो लिया ही है बल्कि साथ ही नया रिकॉर्ड भी बना दिया है। वहीं, जीतने के बावजूद विराट कोहली आईसीसी के एक नए नियम को लेकर नाराज दिख रहे हैं। उधर, वैस्टइंडीज टीम से जुड़े कुछ ऐसे आंकड़े सामने आए जिससे पता चलेगा कि यह टीम कितनी धरातल सतह पर चली गई है। पंजाब केसरी स्पोट्र्स डेस्क आपके लिए लाए हैं ऐसी खबरें जो आप अपने व्यस्त शैड्यूल के चलते मिस कर जाते हैं। इस न्यूज बुलेटिन में हम आपको खेल जगत से जुड़ीं अब तक की बड़ी खबरों से रूबरू करवाने जा रहे हैं। पढि़ए एक क्लिक में-
बताैर कप्तान कोहली के बल्ले से बना ऐसा रिकाॅर्ड जो कोई भी नहीं बना सका

PunjabKesari
जब भी कप्तान विराट कोहली का बल्ला चला, कोई ना कोई रिकाॅर्ड जरूर स्थापित हुआ। विंडीज के खिलाफ राजकोट में पहले टेस्ट की पहली पारी में कोहली ने 139 रनों की पारी खेली। जैसे ही उन्होंने पारी का 121वां रन लिया तो कोहली बताैर कप्तान वो मुकाम हासिल कर गए जो कोई नहीं कर सका। टेस्ट क्रिकेट में लगातार तीन साल हजार रन बनाने वाले कोहली पहले कप्तान बन गए हैं। इससे पहले कोई भी बल्लेबाज कप्तानी के दौरान यह कारनामा नहीं कर पाया था। कोहली साल 2016 में 1215 रन, साल 2017 में 1059 रन जबकि इस साल अब तक वह 1018 रन बना चुके हैं। सचिन ने 2001 और 2002 में ऐसा किया था।

पूर्व भारतीय खिलाडी ने ऋषभ पंत को कहा कमजोर विकेटकीपर

Sports
विंडीज के खिलाफ भारत की तरफ से युवा बल्लेबाज ऋषभ पंत ने अपने टेस्ट कैरियर की दूसरी अच्छी पारी का आगाज किया है। इस टेस्ट में ऋषभ पंत ने अपने अच्छे प्रदर्शन से  दिग्गज खिलाडिय़ों को प्रभावित किया है। भारतीय विकेटकीपर सैयद किरमानी ने पंत के प्रदर्शन को लेकर भविष्य के लिए काफी आत्मविश्वास हैं। भारत के पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज किरमानी ने युवा विकेटकीपर पंत के प्रदर्शन की तारीफ की है और कहा कि दिल्ली के इस खिलाड़ी का भविष्य बहुत ही उज्जवल है। पंत ने विंडीज के खिलाफ पहले टेस्ट मैच की पहली पारी में तेज बल्लेबाजी करके अपनी काबिलियत का अच्छा प्रदर्शन किया।

7 मैचों में नई गेंद से ही धराशाही हो रहा है वैस्टइंडीज, देखें और रोचक आंकड़े

PunjabKesari
भारत और वैस्टइंडीज के बीच राजकोट में खेला गया पहला टैस्ट दोनों ही मुल्कों के लिए कभी न भूलने वाला टैस्ट बन गया। भारत के लिए इस टैस्ट से एक अच्छी याद जुड़ी क्योंकि वह इसमें अपने टैस्ट इतिहास की सबसे बड़ी जीत के तौर पर जानेगा तो वहीं, वैस्टइंडीज के लिए यह सबसे बुरे अनुभवों में से एक होगा। कभी क्रिकेट पर राज करने वाली वैस्टइंडीज टीम भारत के खिलाफ पहले टैस्ट में बिल्कुल ही बिखरी नजर आई। भारतीय स्पिनर हरभजन सिंह ने तो वैस्टइंडीज के प्लेयरों को घरेलू क्रिकेट के खिलाड़ी तक कह दिया। अब वैस्टइंडीज टीम से जुड़ा एक नया आंकड़ा सामने आया है जिसे कोई भी वैस्टइंडीज क्रिकेट प्रेमी सुनना नहीं चाहेगा।

जापान ओपन के फाइनल में पहुंचे केई निशिकोरी

Sports

2 बार चैम्पियन केई निशिकोरी ने 8वें वरीय रिचर्ड गास्केट को सीधे सेटों में हराकर जापान ओपन के फाइनल में प्रवेश कर लिया है। तीसरे वरीय निशिकोरी ने 2 साल पहले मेम्फिस में अपने करियर का 11वां खिताब जीता था। उन्होंने 89 मिनट तक चले मुकाबले में फ्रांस के खिलाड़ी को 7-6, 6-1 से मात दी। वह इस खिताब को जीतने के प्रबल दावेदार लग रहेे हैं जो यहां उनकी तीसरी ट्रॉफी होगी। अब उनका सामना फाइनल में क्वालीफायर दानिल मेदवेदेव से होगा जिन्होंने कनाडा के डेनिस शापोवालोव को 6-3 6-3 से मात दी।

छा गए कुलदीप, दूसरी पारी में 5 विकेट लेकर बनाया गजब का रिकाॅर्ड

Sports
भारतीय क्रिकेट टीम ने राजकोट में विंडीज के खिलाफ हुए पहले मैच में एक पारी आैर 272 रनों से हराकर 2 मैचों की सीरीज में 1-0 की बढ़त बनाई। चाइनामैन कुलदीप यादव ने दूसरी पारी में 5 शिकार किए आैर इसी के साथ उन्होंने एक गजब का रिकाॅर्ड अपने नाम कर लिया। कुलदीप ने अपने टेस्ट करियर में पहली दफा 5 विकेट हॉल लेने का कमाल कर दिखाया है। अब कुलदीप भारतीय क्रिकेट इतिहास के केवल दूसरे खिलाड़ी बन गए हैं, जिन्होंने क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट (टेस्ट, वनडे और टी-20) में फाइव विकेट हॉल यानी एक पारी में 5 या उससे ज्यादा विकेट लिए हों।

मैच ऑफ मैच पृथ्वी शॉ बोले- ऐसे प्रदर्शन की कल्पना नहीं की थी

PunjabKesari
वैस्टइंडीज के खिलाफ पदार्पण टैस्ट में शतक लगाकर क्रिकेट फैंस की नजरों में शाने वाले 18 साल के भारतीय बल्लेबाज पृथ्वी शॉ ने मैन ऑफ द मैच अवॉर्ड लेने के बाद कहा कि उन्होंने अपने पहले ही टैस्ट में ऐसे प्रदर्शन की कल्पना भी नहीं की थी। पृथ्वी को पदार्पण टैस्ट में कप्तान विराट कोहली ने ओपनिंग का सुनहरा मौका दिया था जिसे उन्होंने भुनाते हुए 134 रनों की शतकीय पारी खेल डाली। वह इसके साथ ही पदार्पण टैस्ट में शतक लगाने वाले भारत के सबसे युवा बल्लेबाज भी बन गए। 

जीत के बावजूद भी नाराज है विराट कोहली, ICC का नया नियम है कारण

Sports
भारत और वैस्टइंडीज के बीच हुए पहले टैस्ट में भारत ने अपने टैस्ट करियर की सर्वश्रेष्ठ जीत (पारी, 272 रन) हासिल की। लेकिन इतनी बड़ी जीत हासिल करने के बावजूद भी भारतीय कप्तान विराट कोहली आईसीसी के एक नए नियम से नाराज जरूर दिखे। दरअसल आईसीसी ने 30 सितंबर से एक नया नियम लागू किया है कि मैच के वक्त पानी पीके का ब्रेक केवल तब ही होगा जब या तो विकेट गिरेगी या फिर ओवर पूरा खत्म होगा। 

घरवालों से चोरी खेली हॉकी, इलाके में लगते थे पोस्टर तो लगता था डर-घरवाले खेलना न छुड़वा दें : हरजीत

Sports
15 साल बाद टीम इंडिया को जूनियर वल्र्ड हॉकी कप दिलाने वाले हरजीत सिंह तुली के घर वाले नहीं चाहते थे कि वह कभी हॉकी खेलें। इसके पीछे एक वजह सिर्फ यह थी कि पिता रामपाल सिंह जोकि पेशे से ट्रक ड्राइवर थे, ट्रेङ्क्षनग का खर्च उठाने में असमर्थ थे। हरजीत हॉकी खेलना भूल भी जाते अगर इलाके में उन दिनों एक अकादमी न खुल गई होती। पंजाब केसरी ऑफिस पहुंचे हरजीत ने ये बातें तब कहीं जब वह अपनी जिंदगी के संघर्ष, कामयाबी के बाद आई मुश्किलें संबंधी बातचीत कर रहे थे। हरजीत बताते हैं कि उन्होंने बचपन में जब घरवालों का बताया कि वह हॉकी में करियर बनाना चाहते हैं तो उन्होंने आॢथक हालात ठीक न होने के कारण पढ़ाई पर ध्यान देने के लिए कहा था। मैंने हॉकी खेलनी थी इसलिए घरवालों को बिना बताए अकादमी पहुंच गया।

रोनाल्डो महज एक फुटबाॅलर नहीं है, बल्कि बड़ा ब्रांड है

Sports
बिजनेस को बढ़ाने में भी सोशल मीडिया काफी मददगार साबित हो रहा है और किसी सामाजिक मसले पर लोगों को जागरूक करने और अपना व्यापार को चलाना काफी आसान हो गया है। एेसा ही कुछ अाज के समय जिस तरह सोशल मीडिया पर करोड़ों फॉलोअर्स, प्रायोजकों की लंबी कतार, आसमान छूती कमाई और होटलों से लेकर अंडरवियर तक अपने ब्रांड नाम के चलते क्रिस्टियानो रोनाल्डो महज एक फुटबाॅलर नहीं बल्कि अपने आप में व्यवसाय का एक साम्राज्य है। जिसके साथ रोनाल्डो का नाम जुड़े वह ब्रांड सुर्खियों में आ जाता है। अमेरिका में एक माडल द्वारा लगाये गए बलात्कार के आरोपों के कारण हालांकि सीआर 7 वैश्विक ब्रांड को भारी नुकसान हुआ है ।  

हार पर बोले ब्रेथवेट- हम आक्रमक ज्यादा था, रक्षात्मक कम

Sports
भारत दौरे पर आई वैस्टइंडीज टीम को पहले ही टैस्ट मैच में भारत के हाथों शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा। वैस्टइंडीज के रैगुलर कप्तान जेसन होल्डर चोट के कारण पहले ही पहले टैस्ट से बाहर हो गए थे। ऐसे में उनकी जगह क्रेग ब्रेथवेट को कार्यवाहक कप्तान बनाया गया था। ब्रेथवेट कप्तानी के मिले मौके को भुना नहीं सके और उनकी टीम भारतीय गेंदबाजों के आगे घुटने टेकती नजर आई। हार के बाद कारण तलाशते हुए ब्रेथवेट ने कहा कि हम पहले टैस्ट में आक्रामक शाट्स खेलने के दोषी रहे। लेकिन हमें सतर्कता और आक्रामकता में सही संतुलन बिठाना होगा। 

.
.
.
.
.