वॉशिंगटनः  अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने भारत को धमकी देते कहा कि रूस से एस-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम की डील करके भारत ने बड़ी गलती की। रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन पिछले सप्ताह भारत आए थे। इस दौरान दोनों देशों के बीच एस-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम की डील फाइनल हुई थी। इसे लेकर ट्रम्प ने कहा कि भारत को इसका नतीजा जल्द पता चल जाएगा। आप भी जल्द ही देखेंगे।
PunjabKesari
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की दिल्ली में हुई मुलाकात के दौरान इस समझौते पर हस्ताक्षर हुए थे। भारत और रूस के बीच हुए सौदे के बारे में पूछे जाने पर ट्रम्प ने ओवल ऑफिस में पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा कि भारत को पता चल जाएगा। भारत को पता चलने जा रहा है। आप जल्द ही देखेंगे। यह पूछे जाने पर कि ऐसा कब होगा, उन्होंने कहा, "आप देखिए, आपकी उम्मीदों से भी जल्द।" ट्रम्प जब सवालों का जवाब दे रहे थे, तो उस वक्त वहां विदेश सचिव माइक पोम्पिओ भी कक्ष में मौजूद थे।  
PunjabKesari
राष्ट्रपति ट्रम्प ने चार नवंबर की समय सीमा के बाद भी ईरान से तेल आयात जारी रखने वाले देशों को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में कहा कि अमेरिका उन देशों को देख लेगा। भारत और चीन जैसे देशों द्वारा ईरान से तेल खरीदना जारी रखने के फैसले पर पर पत्रकारों द्वारा पूछे जाने पर ट्रम्प ने कहा कि हम उन्हें देख लेंगे। तेल मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने सोमवार को कहा था कि दो सरकारी तेल कंपनियों ने नवंबर में ईरान से कच्चे तेल के आयात के लिये ऑर्डर दिया है। उन्होंने कहा कि भारत की अपनी ऊर्जा जरूरते हैं, जिसे उसे पूरा करना है। 
PunjabKesari
इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन (आईओसी) और मंगलोर रिफाइनरी एवं पेट्रोकेमिकल्स लिमिटेड (एमआरपीएल) ने साथ मिलकर ईरान से 12.5 लाख टन (एमटी) कच्चे तेल के लिये ऑर्डर दिया है। ट्रम्प ने मई में ईरान के साथ 2015 में हुए परमाणु समझौते से अपने हाथ वापस खींच लिए थे और उस पर फिर से आर्थिक प्रतिबंध लगा दिए थे। कुछ प्रतिबंध छह अगस्त से प्रभावी हो गए थे, जबकि तेल और बैंकिंग क्षेत्र को प्रभावित करने वाले प्रतिबंध चार नवंबर से प्रभावी होंगे। इराक और सऊदी अरब के बाद ईरान भारत को तेल आपूर्ति करने वाला तीसरा सबसे बड़ा देश है।