International

इस्लामाबादः  पाकिस्तान में कुछ ही देर में इमरान खान के भविष्य का फैसला होने वाला  है औऱ उनका प्रधानमंत्री बनना लगभग तय है, लेकिन उनकी पूर्व पत्नी रेहम खान इससे खुश नहीं हैं। चुनाव के बीच में अपनी किताब के जरिए इमरान पर निशाना साधने वाली रेहम का कहना है कि इमरान अब तक पाक अवाम के लिए हीरो थे, लेकिन अब वे आइटम नंबर बनकर रह जाएंगे। रेहम ने इशारों-इशारों में कहा कि इमरान चाहे पीएम की कुर्सी पर बैठे हों, लेकिन उन्हें चलाने वाले दूसरे लोग (आर्मी) हैं।

एक इंटरव्यू में रेहम ने कहा, इमरान ज्यादा दिनों तक पीएम नहीं रह पाएंगे  और जब उनकी कुर्सी जाएगी तो इज्जत भी चली जाएगी। बकौल रेहम, इमरान ने इन चुनावों में धर्म के नाम पर वोट मांगे हैं, जबकि निजी जिंदगी में वे जरा भी धार्मिक नहीं हैं। वे सुबह नमाज के लिए नहीं उठते। किसी इस्लामिक मान्यता का पालन नहीं करते हैं। रेहम ने बताया कि 'इमरान की ख्वाहिश शुरू से कप्तान बनने की रही है।

वे कभी भी एक सामान्य खिलाड़ी के रूप में टीम ने नहीं रहना चाहते थे। राजनीति में भी यही हुआ। पहले नवाज शरीफ और फिर परवेज मुशर्रफ ने उन्हें सियासत में आने का न्योता दिया था, लेकिन इमरान ने खारिज कर दिया, क्योंकि वे किसी के साथ राजनीति नहीं करना चाहते थे।' 'इसके बाद इमरान ने खुद की पार्टी बनाई। खुद उसके अध्यक्ष बने, चुनाव लड़े और अब आखिरी में वे प्रधानमंत्री बनने जा रहे हैं।'

.
.
.
.
.