International

न्यूयॉर्कः यौन शोषण के आरोपी  ऐंडी रुबिन ने अक्टूबर 2014 में जब कंपनी छोड़ी थी तो गूगल ने उन्हें धूमधाम से विदाई दी थी। ऐंड्रॉयड मोबाइल सॉफ्टवेयर बनाने वाले रुबिन पर  Sexual Harassment Claims (HSC) यानि यौन शोषण के आरोप लगने के बाद भी मोटा एग्जिट पैकेज देकर विदाई देने की खबर को लेकर गूगल के कर्मचारियों में काफी रोष है। कंपनी की साप्ताहिक मीटिंग में को-फाउंडर लैरी पेज और सीईओ सुंदर पिचाई  से इस बारे में मतदान के जरिए सख्त सवाल पूछे गए। मीटिंग में मौजूद एक सूत्र ने बताया, 'एक सवाल था यौन शोषण के गंभीर आरोपों के बाद भी कंपनी ने एक ताकतवर शख्स को बचाने के लिए काफी कोशिश की। पीड़िता के साथ गूगल की कोई हमदर्दी नहीं थी?' 
PunjabKesari
न्यूयॉर्क टाइम्स में आर्टिकल प्रकाशित होने के बाद कर्मचारियों ने पूछा कि आखिर यौन शोषण  के आरोपी को किस आधार पर बड़ी रकम के साथ एग्जिट पैकेज दिया गया। कर्मचारियों का कहना है कि 90 मिलियन डॉलर (6,581 करोड़ रुपए लगभग) का पैकेज दिया गया, जबकि गूगल ने उनके खिलाफ यौन शोषण के आरोपों को प्राथमिक जांच में सही पाया था। रुबिन उन एग्जिक्यूटिव में से एक हैं जिन्हें गूगल यौन शोषण के आरोप के बावजूद पिछले एक दशक से बचाता रहा है।
PunjabKesari
गूगल ने इन्हें लाखों डॉलर का पैकेज भी दिया। दूसरे मामले में एग्जिक्यूटिव बड़ी पोस्ट पर हैं और गूगल इन आरोपों के बारे में चुप है। रुबिन के प्रवक्ता सैम सिंगर ने कहा कि रुबिन को इस आरोप के बारे में बताया गया था और इसलिए स्वयं जिम्मेदारी लेते हुए उन्होंने पद से इस्तीफा दिया। बता दें कि साल 2013 में जिस महिला के साथ विवाहित रुबेन का अफेयर चल रहा था, उसने ही उन पर आरोप लगाए थे। महिला ने कहा था कि रुबेन ने उन्हें होटल के कमरे में जबरन ऑरल सेक्स के लिए मजबूर किया था। 

PunjabKesari
  

.
.
.
.
.