Sports

चंडीगढ़: वर्ल्ड रेसलिंग एंटरटेनमैंट (डब्ल्यू. डब्ल्यू.ई.) रेसलर दिलीप सिंह राणा उर्फ ग्रेट खली ने कहा है कि वह अपने राज्य हिमाचल प्रदेश में इस खेल को बढ़ावा देने के लिए कुछ करने की चाहत रखते थे लेकिन राज्य सरकार से उन्हें इस संबंध में कोई सहयोग नहीं मिला। 

खली ने कहा कि मैंने लगभग 15 वर्ष तक अमरीका में डब्ल्यू.डब्ल्यू.ई. मुकाबलों में भाग लेकर अंडरटेकर सहित कई धुरंधरों को धूल चटाई लेकिन हिमाचल सरकार ने मेरे हौसले पस्त कर दिए। मैं 3 बार मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने मिला और उनके समक्ष राज्य में डब्ल्यू.डब्ल्यू.ई. को बढ़ावा देने का प्रस्ताव रखा लेकिन उनके उदासीन रवैये ने मुझे निराश किया। खली ने अंडरटेकर सहित सभी विदेशी डब्ल्यू.डब्ल्यू.ई. रैसलरों को भारत में उनसे भिडऩे की चुनौती दी है।  

खली ने बताया कि उनकी कम्पनी कंटीनेंटर रैसलिंग एंटरटेनमैंट (सी.डब्ल्यू.ई.) गुडग़ांव और पानीपत में क्रमश: 8 और 12 अक्तूबर को डब्ल्यू.डब्ल्यू.ई. मुकाबले कराने जा रही है जिसमें इस खेल के अनेक नामी विदेशी रेसलर और उनकी पंजाब स्थित डब्ल्यू.डब्ल्यू.ई. अकादमी के पुरुष एवं महिला युवा रैसलर भिड़ेंगे। यह पहला मौका होगा जब हरियाणा में इस तरह के मुकाबले होने जा रहे हैं। इस मौके पर मौजूद राज्य के खेल एवं युवा मामलों के मंत्री अनिल विज ने कहा कि राज्य सरकार ने इन मुकाबलों को मनोरंजन कर से मुक्त कर दिया है।