Sports

पोसूस द कालदस ,ब्राज़ील (निकलेश जैन ) विश्व केटेड शतरंज चैंपियनशिप में अंतिम राउंड में भारत की 12 वर्षीय दिव्या देशमुख नें विश्व खिताब अपने नाम करते हुए एक नया इतिहास रच दिया । दिव्या नें 11 में से कुल 9.5 अंक बनाते हुए यह उपलब्धि हासिल की उन्होने अपराजित रहते हुए कुल 11 में से 8 मैच जीते और तीन मैच ड्रॉ खेले । आपको बता दे की दिव्या नें वर्ष 2014 में 9 वर्ष की आयु में डरबन साउथ अफ्रीका में विश्व अंडर 10 आयु वर्ग का खिताब जीता था और उनका अंडर 12 वर्ग में भी दबदबा बताता है की उनके प्रदर्शन में निरंतरता है और वह लगातार प्रगति कर रही है । 2013 में वह सबसे कम उम्र की वुमेन फीडे मास्टर भी बनी थी । अंतिम राउंड के पूर्व दिव्या 9 अंको पर थी और उनकी नजदीकी प्रतिद्वंदी अमेरिका की मातुस नासतास्स्जा 8.5 अंको पर थी ऐसे में दिव्या नें अंतिम राउंड में हमवतन रक्षिता रवि से ड्रॉ खेला और 9.5 अंको साथ विश्व खिताब लगभग तय किया पर यह और आसान हो गया जब अमेरिका की मातुस नासतास्स्जा अंतिम राउंड में अप्रत्याशित तौर पर अंतिम राउंड हार गयी और इस तरह विश्व अंडर 12 बालिका वर्ग का स्वर्ण पदक भारत की दिव्या देशमुख (9.5) नें जीत  लिया , दूसरे स्थान पर रहते हुए अमेरिका की मातुस नासतास्स्जा (8.5) को रजत पदक तो कजखस्तान की अमिना खेरबिकोवा (8.5) को कांस्य पदक हासिल हुआ