Sports

कांति मांसिस्क ,रूस । ( निकलेश जैन ) में आज भारत के लिए एक अच्छा दिन रहा पुरुष और महिला दोनों ही वर्गो में भारत नें आज वापसी का जज्बा दिखाते हुए टूर्नामेंट में अपनी उपस्थिती का एहसास कराया और पदक जीतने की अपनी संभावनाओं को कायम रखा । 

भास्करन अधिबन फिर साबित हुए जीत का मंत्र - भारतीय ग्रांड मास्टर भास्करन अधिबन का कभी हार ना मानने का जज्बा सिर्फ उन्हे ही नहीं भारत को भी बेहद खतरनाक टीम बना देता है उनका खेल का स्तर अचानक उठा लेने की क्षमता उन्हे किसी को भी पराजित करने के काबिल बना देती है और आज एक बार फिर भारत की चौंथी जीत की भूमिका उनकी चौंथी जीत नें बांधी उन्होने उक्रेन के दिग्गज एंटोन कोरबोव को पराजित कर कल की हार के बाद शानदार वापसी की। पहले बोर्ड पर विदित का प्रदर्शन की स्थिरता भारत के लिए बेहद अच्छी साबित हो रही है आज उन्होने पूर्व विश्व चैम्पियन रुसलान पोनोमरियोव को बराबरी पर रोक कर अंक बांटने को विवश कर दिया । तीसरे बोर्ड पर शशि किरण का शानदार फ़ॉर्म जारी रहा और आज उन्होने अलेक्ज़ेंडर अरेशचेंकों के साथ ड्रॉ खेला तो चौंथे बोर्ड पर परिमार्जन नेगी नें अलेक्ज़ेंडर मोइसेंको से मैच को बराबर रखा और इसका परिणाम यह रहा की पिछले वर्ष बाकू में उक्रेन से 2.5-1.5 के अंतर से हारने वाले भारत नें उसे उसी अंतर से हराते हुए हिसाब बराबर कर दिया । इस जीत से भारत अब अंक तालिका में 9 अंक के साथ चौंथे स्थान पर पहुँच गया है ।  अगले राउंड में 11 अंक के साथ दूसरे स्थान पर चल रहे रूस से भारत का मुक़ाबला है । चीन 12 अंक के साथ पहले तो पोलेंड 10 अंको के साथ तीसरे  स्थान पर चल रहा है । ऐसे में रूस पर जीत ही भारत के लिए पदक का रास्ता खोल सकती है । 

महिला वर्ग में भारतीय टीम नें आज नंबर एक टीम चीन से ड्रॉ खेलते हुए कुछ हद तक अपनी उम्मीद कायम तो रखी है पर ऐसा करना थोड़ा मुश्किल जरूर नजर आता है आज भारत को हार के मुह से पद्मिनी राऊत नें बाहर निकाल पर मैच को ड्रॉ करने में मदद की । आज हरिका नें विश्व नंबर 2 जू वेंजून को ड्रॉ पर रोका तो तनिया नें विश्व चैम्पियन तान ज़्होंगयी को बराबरी पर रोक कर पहले दो बोर्ड से भारत को बराबरी पर रखा तीसरे बोर्ड से ईशा करवाड़े की लेई टिंगये से  हारने की वजह से भारत 2-1 से पीछे हो गया था ऐसे में पद्मिनी नें शानदार खेल दिखाते हुए की गुओ से मैच जीतकर मुक़ाबला 2-2 से बराबरी पर ला दिया । हालांकि भारत अभी 8 अंको के साथ पांचवे स्थान पर है , रूस 12 अंको के साथ पहले तो उक्रेन 12 ही अंको के साथ दूसरे स्थान प है ऐसे में जब चीन 9 अंको के साथ तीसरे स्थान पर और जॉर्जिया 8 अंक के साथ चौंथे स्थान पर है बड़ी जीत ही भारत को आगे ले जा सकती है और उसके लिए हारिका को और बेहतर खेल दिखाना होगा तो तनिया और पद्मिनी को भी खेल में निरंतरता लानी होगी । 

 

निकलेश जैन