Sports

नई दिल्ली: भारत की मेजबानी में शुक्रवार से शुरू हो रहे कबड्डी विश्वकप में भारत 12 देशों के बीच खिताब की रक्षा के लिए उतरेगा। ऐसा पहली बार हो रहा है कि कबड्डी विश्व कप में 12 टीमें हिस्सा ले रही हैं। 

12 टीमों को 2 पूल में बांटा गया है
7 से 22 अक्तूबर तक चलने वाले इस विश्वकप में सभी मैच राऊंड रोबिन लीग प्रारूप के आधार पर खेले जाएंगे। इसके बाद सैमीफाइनल और फाइनल खेला जाएगा। सभी 12 टीमों को 2 पूल में बांटा गया है। इनमें भारत, अमरीका, इंगलैंड, ऑस्ट्रेलिया, ईरान, पोलैंड, थाईलैंड, बंगलादेश, दक्षिण कोरिया, जापान, अर्जेंटीना और केन्या की टीमें शामिल हैं। विश्वकप के पहले दिन मेजबान भारत का मुकाबला दक्षिण कोरिया से होगा।  

कबड्डी के क्रेजी है लोग
अंतरराष्ट्रीय कबड्डी महासंघ (आई.के.एफ.) के अध्यक्ष जनार्दन सिंह गहलोत ने कहा कि कबड्डी एक वैश्विक खेल है और आईकेएफ इसके विकास के लिए लगातार काम कर रहा है। विश्वकप को लेकर सभी टीमों में खासा उत्साह है और मुझे पूरा विश्वास है कि इसे लेकर दर्शकों में भी खासा उत्साह देखने को मिलेगा। उम्मीद है कि लोग विश्वकप से उत्साहित होकर इससे ज्यादा से ज्यादा संख्या में जुड़ेंगे।

4 भाषाओं में किया जाएगा प्रसारण
उन्होंने कहा कि कबड्डी विश्वकप को अधिक लोकप्रिय बनाने के लिए 4 भाषाओं अंग्रेजी, हिन्दी, कन्नड़ और तेलुगू में इसका प्रसारण किया जाएगा। इसके अलावा 120 से अधिक देशों में इसका प्रसारण होगा। विश्वकप के पहले दिन मेजबान भारत का मुकाबला दक्षिण कोरिया से होगा।