Sports

सिडनी: ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान माइकल क्लार्क ने टीम की पुरानी लड़ाई का खुलासा करते हुए कहा है कि आलराउंडर शेन वॉटसन टीम में एक ट्यूमर की तरह थे। क्लार्क ने ऑस्ट्रेलियाई ड्रेसिंग रूम में हुए एक घटना से पर्दा उठाते हुए कहा कि 2009 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट मैच जीतने के बाद टीम सॉन्ग कब बजाया जाना चाहिए इसे लेकर साइमन कैटिच ने टीम के उप-कप्तान का गला ही पकड़ लिया था।   

क्लार्क ने एक टेलीविजन को दिए साक्षात्कार में अपने साथियों साथ अपने संबंधों के बारे में खुलकर बातें की। विश्वकप विजेता कप्तान ने कहा, टीम में कई ऐसे खिलाड़ी थे जो ट्यूमर की तरह थे और अगर ठीक नहीं किया जाता तो वो कैंसर में तब्दील हो सकते थे। हालांकि क्लार्क ने यह मानने से इन्कार कर दिया कि उन्होंने टीम के ऑलराउंडर शेन वॉटसन को टीम का कैंसर कहा था। वॉटसन को ऑस्ट्रेलियाई टीम के पूर्व कोच मिकी आर्थर ने टीम का कैंसर बताया था। यह पूछे जाने पर कि क्या वॉटसन उनमें से एक थे, उन्होंने कहा,‘हां वो उनमें से एक थे। क्लार्क ने गत वर्ष इंग्लैंड से एशेज सीरीज हारने के बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया था।   

क्लार्क ने बताया कि जब वह टीम के उप कप्तान बने उसके बाद समस्याएं शुरू हुईं। उन्होंने कहा, मुझे नहीं लगता था कि मैं एक अच्छा उप कप्तान हूं। मेरा यह सोचना था कि जब मुझे उप कप्तान बनाया गया था तो उसके बाद ये तय था कि मैं ही टीम का अगला कप्तान बनूंगा। इसके बाद मुझे कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ा।