Sports

विशाखापत्तनम: भारतीय कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी ने न्यूजीलैंड के खिलाफ आखिरी वनडे में मिली शानदार जीत का श्रेय गेंदबाजों को देते हुए कहा कि यह गेंदबाजों का ही सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन था जिससे भारत ने सीरीज जीत ली। धोनी ने मैच के बाद कहा, यह एक ऐसा मैच था जिसमें स्पिनरों को काफी मदद मिल रही थी। इससे पूर्व जब भी हमने पहले गेंदबाजी की तो विकेट पहले हाफ में बल्लेबाजी के लिए बेहतर होता था। निश्चित रूप से गेंदबाजों का बेहतर प्रदर्शन था। जिस गति के साथ स्पिनरों ने गेंदबाजी की वह सटीक थी। 

मैच में पांच विकेट लेने वाले लेग स्पिनर अमित मिश्रा की सराहना करते हुए धोनी ने कहा, मिश्रा की गेंदों की खूबसूरती यही है कि वह धीमी गेंदे डालते हैं और एक विकेटकीपर के रूप में आपको बल्लेबाज का स्टम्प करने का पूरा समय मिल जाता है। मिश्रा ने अक्षर के साथ बढिय़ा तालमेल के साथ गेंदबाजी की जिन्होंने फ्लैट और तेज गेंदे डालीं।

धोनी ने कहा,‘‘मुझे खुशी है कि हमने कुछ शीर्ष खिलाडिय़ों को विश्राम दिया। मैं अपने प्रदर्शन से खुश हूं। इसके बाद नीचे के क्रम के बल्लेबाजों जैसे केदार जाधव, अक्षर पटेल, मनीष पांडे को भी काफी अनुभव मिला। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में संपूर्ण बनना मुश्किल है इसलिए नए खिलाडिय़ों को बेहतर बनने के लिए समय दिया जाना चाहिए।’’ उन्होंने कहा,‘‘खेल में किस तरह से खुद को ढालना है उसके कुछ तरीके हैं। एक आईपीएल है जिसमें आप लक्ष्य का पीछा करते हुए हिटिंग करते हो लेकिन अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आप नाकाम हो सकते हो और तब आप अधिक सोच समझकर चलते हो। यह जरूरी नहीं है कि आप 40 आेवर में जीत दर्ज करो। आप 50 आेवर में भी एेसा कर सकते हो।’’