Sports

लंदनः चोट के बाद लंबे समय बाद वापसी कर रही आस्ट्रेलिया की सैली पियर्सन ने यहां विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में 100 मीटर बाधा दौड़ में जोरदार प्रदर्शन करते हुए गोल्ड मेडल अपने नाम कर लिया। पियर्सन ने यह स्वर्ण 30 वर्ष की उम्र में हासिल किया। पियर्सन वर्ष 2011 की विश्व चैंपियन हैं और 2012 में उन्होंने ओलंपिक स्वर्ण पदक जीता था। पियर्सन पिछले दो सत्रों में हैमस्ट्रिंग और कलाई की चोट के चलते प्रतियोगिताओं में हिस्सा नहीं ले पायी थीं। 

पियर्सन ने जोरदार वापसी की और 12.59 सेकंड का समय निकालते हुए खिताब अपने नाम किया। फिनिश लाइन पार करते ही पियर्सन ने खुशी और संतुष्टि जाहिर करते हुए कहा कि ओ माई गॉड। उन्होंने कहा कि मैं कड़ी मेहनत की थी। पिछला कुछ समय मेरे लिये निराशाजनक रहा लेकिन यहां स्वर्ण पदक जीतना मेरे लिये संतोष प्रदान करने वाला है।

2008 की ओलंपिक गोल्ड मेडल विजेता अमेरिका की डान हार्पर नेल्सन ने 12.63 सेकंड के समय के साथ रजत और जर्मनी की पामेला ने 12.72 सेकंड के समय के साथ कांस्य पदक हासिल किया। उल्लेखनीय है कि गत चैंपियन जमैका की डेनियल विलियम्स फाइनल में जगह नहीं बना पायी थीं।