Sports

नई दिल्ली: डोप टेस्ट में एेन मौके पर नाकाम रहने के कारण रियो आेलंपिक नहीं खेल सके हरियाणा के फर्राटा धावक धरमबीर सिंह पर राष्ट्रीय डोपिंग निरोधक एजेंसी ने आठ साल का प्रतिबंध लगाया है। 200 मीटर के धावक धरमबीर को बेंगलूरू में 11 जुलाई को इंडियन ग्रां प्री के दौरान डोप टेस्ट में पाजीटिव पाया गया था। दूसरी बार डोपिंग में पकड़े जाने के कारण नाडा की डोपिंग निरोधक अनुशासन समिति ने उन पर आठ साल का प्रतिबंध लगाया।

नाडा के शीर्ष सूत्र ने बताया ,‘‘ धरमवीर पर आठ साल का प्रतिबंध लगाया गया है। चूंकि यह उसका दूसरा अपराध था। नाडा ने इसकी सूचना आईएएएफ और वाडा को दे दी है।’’ इससे पहले 2012 में अनिवार्य डोप टेस्ट नहीं देने के कारण धरमवीर से राष्ट्रीय अंतर प्रांत चैंपियनशिप में जीता 100 मीटर का स्वर्ण पदक छीन लिया गया था। धरमबीर ने इंडियन ग्रां प्री में 200 मीटर में राष्ट्रीय रिकार्ड के साथ 20.45 सेकंड का समय निकाला था। इससे शक की सुई उन पर घूमने लगी थी क्योंकि उनका प्रदर्शन पिछले कुछ अर्से से अच्छा नहीं था और उन्होंने राष्ट्रीय शिविर की बजाय रोहतक में अपने कोच के साथ अभ्यास किया था।