Sports

इंदौर: मध्यप्रदेश के सागर जिले में काले हिरण के शिकार के संगीन आरोप का सामना कर रहे युवा ऑलराउंडर रमीज खान को सूबे की रणजी ट्रॉफी टीम में फिर से शामिल कर लिया गया है। उन्हें मामले में गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत के तहत जेल भेजे जाने के बाद पिछले रणजी सत्र में राज्य की टीम से बाहर निकाल दिया गया था।   मध्यप्रदेश क्रिकेट संगठन एमपीसीए) ने मौजूदा रणजी सत्र के शुरूआती दो मैचों के लिअ देवेंद्र बुंदेला की कप्तानी में जो 16 सदस्यीय टीम घोषित की है, उसमें रमीज खान (26) का भी नाम है। वह काले हिरण के शिकार के मामले में फिलहाल जमानत पर बाहर हैं।   

इस बारे में पूछे जाने पर एमपीसीए के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) रोहित पंडित ने कहा कि अदालत में अभी रमीज पर (काले हिरण के शिकार का) जुर्म साबित नहीं हुआ है। उन्हें खिलाड़ी के रूप में उनकी काबिलियत और प्रदर्शन के आधार पर रणजी टीम में शामिल किया गया है। उन्होंने कहा कि हमारी मामले पर पूरी निगाह बनी हुई है। लेकिन अदालत में न्यायिक प्रक्रिया के तहत रमीज पर जुर्म साबित होने से पहले हम एमपीसीए के नियम..कायदों के मुताबिक उन्हें कोई सजा नहीं दे सकते।

एमपीसीए के सचिव मिलिंद कनमड़ीकर ने भी कहा कि जब तक रमीज को अदालत द्वारा काले हिरण के शिकार का मुजरिम करार नहीं दिया जाता, तब तक प्रदेश क्रिकेट संगठन के संविधान के तहत उनके खिलाफ कोई अनुशासनात्मक कदम नहीं उठाया जा सकता।