Sports

नई दिल्लीः सुरेश रैना ने कहा कि वह अच्छा प्रदर्शन करने के बावजूद भारतीय टीम से बाहर किए जाने के कारण काफी ‘आहत’ हुए थे लेकिन अब फिर से वापसी के बाद वह दक्षिण अफ्रीका में आगामी टी20 सीरीज में इस मौके का पूरा फायदा उठाने को तैयार हैं। रैना ने सूत्रों से कहा, ‘‘मैं दुखी हो गया था क्योंकि अच्छा करने के बावजूद मुझे टीम से बाहर कर दिया गया। लेकिन अब मैंने यो-यो टेस्ट पास कर लिया है और मैं फिट महसूस कर रहा हूं। इतने महीनों की कड़ी ट्रेनिंग के दौरान मेरी भारत के लिए खेलने की इच्छा और मजबूत ही हुई है।’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘बात यहीं तक ही नहीं है। मुझे भारत के लिए जितना लंबे समय तक हो, खेलना है। मुझे 2019 विश्व कप खेलना है क्योंकि मैं जानता हूं कि मैंने इंग्लैंड में अच्छा प्रदर्शन किया है। मेरे अंदर अब भी काफी क्रिकेट बचा है और मुझे दक्षिण अफ्रीका में इन तीन मैचों में अच्छा प्रदर्शन करने का भरोसा है।’’ रैना ने बताया कि वे पिछले डेढ़ साल से टीम से बाहर हैं, उन्होंने कहा, ‘‘पिछले डेढ़ साल टीम से बाहर रहने के बाद फैमिली ने काफी सपोर्ट किया। मैंने पत्नी और बेटी के साथ टाइम स्पेंड किया। वो टाइम बहुत शानदार था। देश के लिए जब भी खेला दिल से खेला है और जोश में खेला था मुश्किल था लेकिन यही पहचान है असली खिलाड़ी की।’’ इस 31 वर्षीय क्रिकेटर ने 223 वनडे और 65 वनडे खेले हैं।

रैना नंबर चार पर बल्लेबाजी करते हुए कहा कि, ‘‘टी-20 मैच इंपोर्टेंट होंगे लेकिन 50 ओवर का अनुभव अंतर पैदा करेगा। जब आप उस नंबर पर खेलते हैं तो यह एक मुश्किल पोजीशन है और इस नंबर पर आपको नींद नहीं आएगी। इस नंबर पर मुश्किल में बैटिंग आएगी खासकर जब आप चेज़ कर रहे हो। आपको अटैक करना पड़ेगा गियर चेंज करना पड़ेगा। अगर रोहित, विराट अच्छा करते हैं तो 350 रन चेज कर सकते हैं।’’ जब उनसे पूछा गया कि आने वाले मैचों के लिए क्या प्लान कर रहे हैं तो उन्होंने कहा, टीम अच्छा कर रही है मैं उम्मीद करता हूं कि आने वाले 3 मैचों में अच्छा करूं और अपनी जगह पक्की करूं।’’