Sports

कराची: पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर ने दावा किया कि 1996 में मैच फिक्सिंग अपने चरम पर थी और कहा कि उस समय ड्रैसिंग रूप में माहौल अनुकूल नहीं था।

दुनिया के कुछ सबसे तेज गेंदबाजों में शुमार अख्तर ने कहा कि उन्होंने हमेशा इन सबसे दूरी बनाए रखी और दूसरों को भी इससे बचते हुए गरिमा और गंभीरता से खेलने की सलाह देते रहे। अख्तर ने दावा किया कि 2010 के दौरान उन्होंने मोहम्मद आमिर को भी ऐसे लोगों से मिलने-जुलने से बचने की सलाह दी थी, जो मैच फिक्सिंग के लिए खिलाड़ियों को लालच दे सकते हैं।

अख्तर ने कहा, ‘‘सिर्फ क्रिकेट के अलावा काफी कुछ चल रहा था और ड्रैसिंग रूम में क्रिकेट पर ध्यान देना मुश्किल था। यह खराब माहौल था।’’ इस विवादास्पद तेज गेंदबाज ने यह दावा उस समय किया है जब 2 पाकिस्तानी दिग्गजों जावेद मियांदाद और शाहिद अफरीदी ने आपसी मतभेद का हल निकाल लिया है जिसने एक बार फिर पाकिस्तानी क्रिकेट में मैच फिक्सिंग प्रकरण और आरोपों के सामने आने का खतरा पैदा कर दिया था। अख्तर ने हालांकि स्पष्ट किया कि उन्हें खुशी है कि मियांदाद और अफरीदी ने मतभेद सुलझा लिए हैं।