Sports

लंदन: इतिहास बनाने से बस चंद कदम दूर रह गई भारतीय महिला क्रिकेट टीम की कप्तान मिताली राज ने इंग्लैंड के खिलाफ मैच में मिली हार की असल वजह बताते हुए कहा कि इंग्लैंड के खिलाफ मैच में खिलाड़ी आखिरी क्षणों में काफी घबरा गई थीं और इस दबाव का ही नतीजा है कि खिताब उनके हाथों से निकल गया।

भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने रविवार को संपन्न हुए आईसीसी महिला विश्वकप टूर्नामेंट में कमाल का खेल दिखाते हुए फाइनल में जगह बनाई थी लेकिन इंग्लैंड के खिलाफ खिताबी मैच में अच्छी गेंदबाजी और संतुलित बल्लेबाजी के बावजूद आखिरी कुछ क्षणों में उसकी गलतियों से वह मात्र नौ रन से पहली बार खिताब जीतने का मौका गंवा बैठी।

भारत ने इससे पहले मात्र एक बार वर्ष 2005 में महिला विश्वकप फाइनल में जगह बनाई थी लेकिन तब उसे आस्ट्रेलिया ने हरा दिया। मैच के बाद मिताली ने कहा कि मुझे अपनी टीम पर गर्व है। हमारे लिए यह मैच आसान नहीं था लेकिन इंग्लैंड को इस जीत का श्रेय जाता है जिन्होंने आखिरी समय तक खुद को बांधे रखा। एक समय मैच में ऐसा था जब हम संतुलित स्थिति में थे लेकिन फिर हम घबरा गए और इसी से हम मैच हार गए।  35 वर्षीय मिताली ने कहा कि मुझे अपनी खिलाड़ियों पर गर्व है। उन्होंने किसी भी टीम को आसानी से मैच नहीं जीतने दिया। हमने टूर्नामेंट में बहुत अच्छा खेल दिखाया। टीम की हर युवा खिलाड़ी ने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया।