Sports

सिडनी:  आस्ट्रेलिया के पूर्व तेज गेंदबाज मिशेल जॉनसन ने पूर्व कप्तान माइकल क्लार्क पर निशाना साधते हुए कहा है कि टीम के कुछ खिलाड़ी क्लार्क की कप्तानी में खेलने को तैयार नहीं थे।  

क्लार्क ने टीम के पूर्व ऑलराउंडर शेन वाटसन समेत कई खिलाड़ियों को टीम में टयूमर की तरह बताया था। इसके बाद वाटसन ने क्लार्क पर हमला करते हुए कहा था कि पूर्व कप्तान को पहले अपने गिरेबां में झांक कर देखना चाहिए और अब जॉनसन ने भी क्लार्क के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। जॉनसन ने एक साक्षात्कार में कहा कि टीम में कुछ ऐसे भी खिलाड़ी थे जो क्लार्क की कप्तानी में खेलना ही नहीं चाहते थे। वर्ष 2011 में रिकी पोंटिंग से कप्तानी लेने के बाद क्लार्क के नेतृत्व में टीम टूट गई थी। उन्होंने पूरी टीम को अलग-थलग करके रख दिया था। जॉनसन ने गत वर्ष ऐशेज सीरीज हारने के बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया था।   

वर्ष 2013 में भारत दौरे पर जॉनसन उन 4 खिलाड़ियों में शामिल थे जिन पर होमवर्क न करने पर प्रतिबंध लगा दिया गया था। उन्होंने कहा कि भारत में प्रतिबंध लगने के बाद क्लार्क के साथ उनके संबंध खराब हो गए थे। 34 वर्षीय जॉनसन ने कहा कि मुझे ये पसंद नहीं आया। मुझे लगता है कि उस समय टीम में संबंध काफी खराब थे। मैं खुद को बाहरी महसूस करता था। क्लार्क की कप्तानी में खेलने पर मेरा अनुभव बेहद खराब रहा है। जब क्लार्क कप्तान थे तो ड्रेसिंग रूम का माहौल काफी गंदा था। खिलाडिय़ों और कप्तान के बीच का ताल-मेल भी काफी खराब था।

पूर्व तेज गेंदबाज ने कहा कि क्लार्क के समय काफी कुछ बदल गया था। टीम अब वह टीम नहीं रह गई थी जो पहले थी। इसमें अलग-अलग गुट बन गए थे और माहौल काफी खतरनाक हो गया था। सब लोग इस बात को देख भी रहे थे , लेकिन किसी ने इसे ठीक करने के लिए कुछ नहीं किया। टीम में रहने में मजा नहीं आ रहा था। आप जब देश के लिए खेलते हैं तो आपको मजा आना चाहिए।