Sports

विशाखापट्नम:  भारत और न्यूजीलैंड दोनों ही 5 मैचों की वनडे सीरीज में बराबरी पर पहुंच गयी हैं और शनिवार को निर्णायक हो चुके मुकाबले में जहां कप्तान धोनी अपने नेतृत्व में घरेलू मैदान पर हर हाल में जीत दर्ज करना चाहते हैं तो वहीं मेहमानों ने भी भारत में पहली बार द्विपक्षीय सीरीज जीत इतिहास रचने के लिये अपनी कमर कस ली है। 

भारत ने टैस्ट सीरीज में विराट कोहली की कप्तानी में 3-0 से न्यूजीलैंड का सफाया किया था तो अब टीम धोनी की कप्तानी में सीमित ओवर प्रारूप में खेल रही है और विश्व विजेता कप्तान भी बिना किसी गलती के टीम को जीत दिलाना चाहते हैं। रांची में अपने गृह नगर में मिली हार से सीरीज कब्जाने का मौका गंवाने से वह निराश दिख रहे हैं और इसकी भरपाई टीम इंडिया विजाग में करना चाहती है।  दूसरी ओर विश्वकप की उपविजेता कीवी टीम टैस्ट सीरीज में मिली एकतरफा हार की निराशा को पीछे छोड़ वनडे सीरीज कब्जाना चाहती है। रांची में कप्तान विलियम्सन ने स्थिति को अच्छी तरह पहचानते हुये बल्ले और गेंद से प्रभावशाली प्रदर्शन कर न सिर्फ 19 रन से जीत दर्ज की थी बल्कि सीरीज हाथ से निकलने से भी बचाई।  

विलियम्सन रांची में कह चुके हैं कि टीम अब जीत के लिये आश्वस्त है और उसका भरोसा बड़ा है। कीवी टीम ने भारत में कभी भी द्विपक्षीय सीरीज नहीं जीती है और उसके पास पहली बार यह इतिहास रचने का अहम मौका भी है। टीम के अनुभवी बल्लेबाज रॉस टेलर ने भी कहा है कि टीम ट्राफी के साथ ही घर लौटना चाहती है और निर्णायक मैच में वह भारत को कड़ी टक्कर देने के लिए तैयार हैं।