Sports

नई दिल्ली: अपने शानदार नेतृत्व में भारत को पिछले साल के अंत में लखनऊ में हुए जूनियर हॉकी विश्व कप का खिताब दिलाने वाले जूनियर टीम के कप्तान हरजीत सिंह ने कहा कि हॉकी इंडिया लीग (एचआईएल) युवा प्रतिभाशाली खिलाडिय़ों को अपनी प्रतिभा दिखाने का शानदार मंच है और इसमें अच्छा प्रदर्शन कर वे सीनियर टीम में जगह बनाने के लिये अपना दावा मजबूत कर सकते हैं। एचआईएल का शुभारंभ मुंबई में 21 जनवरी से होना है और इससे पहले जूनियर टीम के कप्तान हरजीत ने खिलाडिय़ों को अच्छे प्रदर्शन के लिये प्रेरित किया। उन्होंने युवा खिलाडिय़ों से कहा कि यदि उन्हें मार्च में बेंगलुरु स्थित साई सेंटर में आयोजित होने वाले सीनियर खिलाडिय़ों के अभ्यास शिविर में जगह बनानी है तो उन्हें एचआईएल में बेहतर प्रदर्शन कर चयनकर्ताओं का ध्यान खींचना होगा।  

20 वर्षीय युवा कप्तान ने कहा कि जब भारतीय टीम के मुख्य कोच रोलैंट ओल्टमैंस ने जूनियर विश्व कप के पहले हमें प्रेरित किया था तो उन्होंने हमसे जोर देकर कहा था कि विश्व कप तथा उसके बाद होने वाली एचआईएल में किया गया प्रदर्शन बहुत से युवा खिलाडिय़ों के आगे बढऩे का रास्ता तय करेगा। बहुत से युवा खिलाडिय़ों के लिए सीनियर टीम में जगह बनाने के लिए यह शानदार मंच होगा। हरजीत ने कहा,Þ कोच ओल्टमैंस ने विश्व कप जीतने के बाद खिलाडिय़ों को आराम न करने की सलाह दी है। 

कोच ने पूरी टीम के साथ 10 मिनट की चर्चा की थी जिसमें उन्होंने कहा था कि यह आप लोगों के लिये एक पड़ाव की तरह है और आप लोगों को कड़ी मेहनत करते हुये अभी लंबा रास्ता तय करना है। आप सभी का लक्ष्य सीनियर टीम में जगह बनाते हुये देश का प्रतिनिधित्व करने का होना चाहिये। उल्लेखनीय है कि हरजीत पिछले वर्ष लंदन में आयोजित एफआईएच चैंपियंस ट्रॉफी में सीनियर टीम की तरफ से खेल चुके हैं और भारत इस प्रतिष्ठित टूर्नामेंट में शानदार प्रदर्शन कर रजत पदक जीतने में सफल रहा था।