Hockey

ढाका: गुरजंत सिंह के आखिरी सेकेंडों मेें किए गए बेहतरीन गोल के दम पर भारत ने गत चैंपियन कोरिया को एशिया कप हॉकी टूर्नामेंट के सुपर फोर मुकाबले में बुधवार को 1-1 के ड्रा पर रोक दिया। भारत 59वें मिनट तक एक गोल से पिछड़ा हुआ था। लेकिन उसने लगातार हमलों से कोरियाई डिफेेंस पर दबाव बना रखा था। भारत को आखिर इस दबाव का फायदा मिल गया और गुरजंत ने आखिरी क्षणों में कोरियाई गोल पर हुए हमले में गोलकीपर से छिटकी गेंद को संभालते हुए बराबरी का गोल दाग दिया। इस तरह भारत ने सुपर फोर में कोरिया के साथ अंक बांट लिया।

इस बीच सुपर फोर के एक अन्य मुकाबले में मलेशिया ने पाकिस्तान को 3-2 से पराजित कर दिया। भारत को बराबरी का गोल होने से राहत मिली। वरना एक समय तो मैच उसके हाथ से ही निकल गया था। पहले दोनों क्वार्टर गोल रहित बराबर रहने के बाद तीसरे क्वार्टर में कोरिया की टीम ज्यादा बढ़चढ़कर खेली। भारतीय टीम आश्चर्यजनक रूप से बेहद रक्षात्मक दिखाई दे रही थी। ऐसा लग ही नहीं रहा था कि यह वही टीम है जिसने पूल मैचों में जापान को 5-1 से, बंगलादेश को 7-0 से और पाकिस्तान को 3-1 से हराया था।

कोरिया ने भारतीय गोल पर दबाव बना रखा था और 41वें मिनट में उसने बढ़त भी हासिल कर ली। कोरिया के एक हमले पर जुंंगजुन ली ने गेंद संभाली और रिवर्स फ्लिक से भारतीय गोलकीपर सूरज करकेरा को छका दिया। एक गोल से पिछडऩे के बाद भी भारतीय हमलों में कोई खास धार नहीं दिखाई दी। मैच अंतिम तीन मिनटों में प्रवेश कर चुका था। भारत ने 58वें मिनट में पेनल्टी कार्नर के लिए रेफरल मांगा। लेकिन टीवी अंपायर ने कई रिप्ले देखने के बाद भारत के रेफरल को खारिज कर दिया।