Sports

मुंबई: इंगलैंड के कप्तान एलिस्टेयर कुक को यह बात स्वीकार करने में कोई गुरेज नहीं है कि उनकी टीम भारत के मुकाबले मजबूत नहीं है लेकिन उन्हें लगता है कि इसी बात से उनकी टीम पर से दबाव उतर जाएगा और वे 5 टैस्ट मैचों की सीरीज में और ज्यादा प्रतिस्पर्धी होकर खेलेंगे।

इंगलैंड ने भले ही यहां आने से पहले कमजोर बांग्लादेश से 3 दिन के अंदर टैस्ट मैच गंवा दिया होगा लेकिन वह सकारात्मक रूप से राजकोट में नौ नवंबर से श्रृंखला की शुरूआत करेगी। दुनिया की नंबर एक टीम भारत ने 2012 मेंं 31 वर्षीय कुक की अगुवाई वाली इंग्लैंड से 1 . 2 से हारने के बाद एक भी भी घरेलू सीरीज नहीं गंवाई है।   

कुक ने कहा कि यह एक बड़ी चुनौती है। जब भी आप नंबर एक या नंबर दो रैंकिंग वाली टीम से उनकी ही सरजमीं पर खेलते हो तो यह बड़ा मुश्किल होता है क्योंकि ये टीमें अपने हालात में सहज होती हैं। जो खिलाड़ी बतौर ग्रुप उप महाद्वीप में काफी क्रिकेट नहीं खेले हैं, उनके लिये यह उनके लिए काफी चुनौती वाला है।