Sports

नई दिल्ली: मुक्केबाजी में वापसी करना कभी आसान नहीं होता लेकिन एक समय भारत के स्टार मुक्केबाज रहे और अब हरियाणा पुलिस में उपाधीक्षक जितेंद्र कुमार पेशेवर मुक्केबाजी में वापसी करने जा रहे हैं और उन्होंने इसे अपना पुनर्जन्म करार दिया है।  राष्ट्रमंडल खेल 2006 के कांस्य पदक विजेता जितेंद्र ने आईओएस के साथ करार किया है जो गत डब्ल्यूबीओ एशिया प्रशांत चैम्पियन विजेंदर सिंह के भी प्रमोटर हैं। भिवानी के इस मुक्केबाज ने पीटीआई को दिए साक्षात्कार में कहा कि यह मेरे लिए पुनर्जन्म है, मुक्केबाजी के रिंग में पुनर्जन्म, क्या इसका बेहतर तरीका हो सकता था। मुझे नहीं पता। मैं अपने मेंटर अखिल कुमार के काफी प्रयासों और स्वयं विजेंदर की प्रेरणा से वापसी कर रहा हूं।

फिलहाल पंचकूला में नियुक्त 28 साल के विजेंदर सिंह ने कहा कि उन्हें अपने काम से प्यार है और मधुबन में अपनी ट्रेनिंग के दौरान आपराधिक कानून को समझने के लिए अपना पूरा समय लिया लेकिन मुक्केबाजी से कभी अलग नहीं हो पाए। जितेंद्र ने कहा कि बीजिंग के बाद मैंने एशिया चैम्पियनशिप (2009) में हिस्सा लिया और कांस्य पदक मिला। इसके बाद मैंने विश्व मुक्केबाजी सीरीज में हिस्सा लिया लेकिन 2011 के बाद मैं जारी नहीं रख पाया।