Sports

नई दिल्ली: भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने फिरोजशाह कोटला में पिछले 11 साल में मिली पहली हार का ठीकरा बल्लेबाजों के सिर पर फोड़ते हुए आज यहां कहा कि न्यूजीलैंड के खिलाफ दूसरे वनडे में नियमित अंतराल में विकेट गंवाना टीम को महंगा पड़ा। 

भारत 243 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए 236 रन पर आउट हो गया। भारतीय बल्लेबाजों में केवल तीन बल्लेबाज ही 30 रन की संख्या पार कर पाए। धोनी ने मैच के बाद संवाददाताओं से कहा,‘‘अगर आप पूरे मैच पर गौर करो तो हमने यदि कोई साझेदारी निभायी तो उसके बाद फिर विकेट गंवाये। रन बनाना मुश्किल नहीं था। रन बन रहे थे लेकिन साथ ही विकेट भी गिर रहे थे। हमने नियमित अंतराल में विकेट गंवाये। हमने 41वें आेवर में ही दो विकेट गंवा दिये थे।’’ 

उन्होंने कहा,‘‘अगर बल्लेबाज दस प्रतिशत और योगदान देते तो मैच का परिणाम अलग होता। यह किसी एक बल्लेबाज की नहीं बल्कि पूरे बल्लेबाजी इकाई की जिम्मेदारी थी। गेंदबाजों ने अच्छा प्रदर्शन करके उन्हें कम स्कोर पर रोक दिया था। पिच भले ही मैच आगे बढऩे के साथ धीमी होती जा रही थी लेकिन इस विकेट पर यह लक्ष्य हासिल किया जा सकता था।’’ धोनी ने कहा,‘‘लक्ष्य का पीछा करते हुए आपको परिस्थिति के हिसाब से खेलना होता है। यदि दूसरी तरफ से विकेट गिरते रहें तो रन बनाना आसान नहीं होता है। असल में जब एक विकेट गिरता या साझेदारी टूटती है तो आपको फिर से नये सिरे से शुरूआत करनी होती है। ’’