Sports

लाहौरः इंग्लैंड के पूर्व कप्तान पॉल कोलिंगवुड ने कहा है कि पाकिस्तान में क्रिकेट एक धर्म के समान है और यहां का वातावरण मैदान पर खिलाड़ियों को खास बनाता है। कोलिंगवुड पाकिस्तान में खेलने आई विश्व एकादश टीम का हिस्सा है लेकिन मंगलवार को हुए पहले टी-20 मैच में उन्हें अंतिम एकादश में खेलने का मौका नहीं मिला था।   

कोलिंगवुड ने मैच के बाद संवाददाता सम्मेलन में कहा कि मैं अभी 41 साल का हूं और सच पूछिए तो मैं फिर से टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच में वापसी करना चाहता हूं। मैं इसे लेकर काफी उत्साहित हूं। पिछली बार जब मैं पाकिस्तान आया था तो मैंने पाया था कि क्रिकेट पाकिस्तान में धर्म की तरह है। क्रिकेट के लिए यहां का वातावरण काफी शानदार है जो मैदान पर आपको खास बनाता है।   

कोलिंगवुड ने जनवरी 2011 में आस्ट्रेलिया के खिलाफ अपना आखिरी टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेला था। उसके पांच साल बाद एक बार फिर से उन्हें अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने को मौका है। इंग्लिश मैन को उम्मीद है कि पाकिस्तान और विश्व एकादश के बीच होने वाले दूसरे टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच में उन्हें फिर से खेलने का मौका मिलेगा। पूर्व कप्तान ने कहा कि मुझे खुद पर बहुत गर्व है। बुधवार को मैं नेट पर अभ्यास के लिए बाहर आया था और मुझे ऐसा लगा कि मैं फिर से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच खेल रहा हूं। जब मैंने 2011 में संन्यास लिया था उसके बाद फिर से खेलने को लेकर मैं बहुत उत्साहित हूं।

CRICKET की अन्य खबरें पढ़ने के लिए हमें Facebook आैर Twitter पर फोलो करें।