Sports

जागरेब: विश्वकप विजेता टीम के कप्तान अर्जेंटीना के दिग्गज फुटबॉलर डिएगो माराडोना ने क्यूबा के क्रांतिकारी नेता और पूर्व राष्ट्रपति फिदेल कास्त्रो के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए उन्हें अपने पिता समान बताया है।  

कास्त्रो का शुक्रवार को निधन हो गया। वह 90 वर्ष के थे। कास्त्रो ने अमरीका की नाक के नीचे अपने देश में कम्युनिस्ट राज्य की स्थापना की थी और उनको अपदस्थ करने के अमेरिका के पांच दशक के प्रयास को नाकाम किया था।  माराडोना ने क्रोएशिया और अर्जेंटीना के बीच चल रहे टेनिस डेविस कप मैच देखने के बाद संवाददाताओं से कहा कि वे ब्यूनस आयर्स में मुझसे मिले थे। यह सुनकर मुझे गहरा दुख हुआ कि 90 वर्ष की आयु में एक क्रांतिकारी नेता का निधन हो गया। वह मेरे दूसरे पिता के समान थे और उनके निधन की खबर सुनकर मैं बहुत दुखी हूं।

माराडोना ने काफी समय क्यूबा में बिताए हैं। वह 1986 में अर्जेंटीना के विश्वकप जीतने के बाद पहली बार क्यूबा गए थे। वह वहां पर ड्रग्स के खिलाफ अभियान भी चला चुके हैं। माराडोना कई मौकों पर कास्त्रो से मिल चुके हैं और 1959 में हुए क्यूबा की क्रांति के लिए कास्त्रो की प्रशंसा कर चुके हैं। वहीं दूसरी तरफ कास्त्रो भी माराडोना को अपना महान मित्र बता चुके हैं। कास्त्रो 1959 की क्रांति के बाद सत्ता में आए थे और उन्होंने 49 वर्ष तक आने देश पर शासन किया था। वह करिश्माई व्यक्तित्व के थे। उन्होंने ढृढ इच्छा शक्ति का परिचय दिया और शीतयुद्ध के समय में भी केन्द्र बिन्दु बने रहे।