Sports

मीरपुर: पूर्व चैम्पियन भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच शुक्रवार को यहां होने वाले आईसीसी ट्वंटी-20 विश्व कप क्रिकेट टूर्नामेंट के दूसरे सेमीफाइनल की जंग का फैसला स्पिनर करेंगें।

भारतीय आफ स्पिनर रविचन्द्रन अश्विन और लेग स्पिनर अमित मिश्रा के मुकाबले दक्षिण अफ्रीका के लेग स्पिनर इमरान ताहिर रहेंगें। इमरान ताहिर को तो बाकायदा आस्ट्रेलिया के महान लेग स्पिनर शेन वार्न ने नेट्स पर टिप्स दिए हैं। हालांकि यह बात अलग है कि वार्न अपने पूरे करियर में कभी भारत के खिलाफ सफल नहीं हो पाए थे।

भारत इस मुकाबले में अमित मिश्रा, अश्विन और लेफ्ट आर्म स्पिनर रवीन्द्र जडेजा की तिकड़ी पर भरोसा करेगा। दक्षिण अफ्रीकी टीम मिश्रा को सबसे बडा खतरा मान रही है। दक्षिण अफ्रीका के बल्लेबाज जे पी डुमिनी ने कहा, ‘‘हम जानते हैं कि भारतीय स्पिनर अपनी टीम के लिए कितने महत्वपूर्ण हैं। मिश्रा इस समय टाप फार्म में हैं और हम उन्हें हल्के में लेने की गलती नहीं करेंगें।’’

ताहिर मुख्य टूर्नामेंट में 11 विकेट लेकर सबसे आगे हैं जबकि मिश्रा ने नौ और अश्विन ने सात विकेट लिए हैं। जडेजा के खाते में पांच विकेट हैं 1 भारतीय बल्लेबाजों को ताहिर के अलावा दक्षिण अफ्रीका के तूफानी गेंदबाज डेल स्टेन से भी सतर्क रहना होगा जो डैथ ओवरों के माहिर होने के साथ-साथ टूर्नामेंट में नौ विकेट भी ले चुके हैं।

भारत ने टूर्नामेंट के चार ग्रुप मैचों में तीन टास जीतकर जीते जबकि चौथा टास गंवाकर जीता। भारत ने अपनी पहली तीन प्रतिद्वंद्वी टीमों पाकिस्तान को 130 रन, वेस्ट इंडीज को 129 रन और बंगलादेश को 138 रन पर रोका था जबकि आस्ट्रेलिया को 86 रन पर ढेर किया था।

यह देखना दिलचस्प होगा कि कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी ओपङ्क्षनग में क्या परिवर्तन करते हैं। क्या वह शिखर धवन को ओपङ्क्षनग में वापिस लाते हैं। या फिर अजिंक्या रहाणे को सेमीफाइनल में बरकरार रखते हैं। शिखर को आस्ट्रेलिया के खिलाफ मैच में बाहर रखा था और राहाणे को मौका दिया था। लेकिन रहाणे इस मौके का ज्यादा फायदा नहीं उठा पाए थे और 19 रन बनाकर आउट हो गए थे।

भारत ने पिछले मैच में तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी को विश्राम देकर मोहित शर्मा को मौका दिया था। शर्मा को सेमीफाइनल में अंतिम एकादश में लौटना तय है। भारत की फिलहाल सबसे बडी चिंता फार्म में लौटे धुरंधर बल्लेबाज युवराज सिंह की फिटनेस है जो मंगलवार को अभ्यास में फुटबाल खेलते समय अपना टखना चोटिल कर बैठे थे। युवराज को एहतियातन कल नेट अभ्यास से विश्राम दिया गया था।

भारत का गत वर्ष के आखिर में दक्षिण अप्रीका दौरे में निराशाजनक प्रदर्शन रहा था और उसने वहां टेस्अ तथ वनडे सीरीज दोनों हारी थी। लेकिन ट्वंटी-20 का मामला इन दोनों फार्मेट से बिल्कुल अलग है और भारतीय खिलाडी इस फार्मेट में इस समय शानदार ह्नरदर्शन कर रहे है।

युवराज सिंह फिट रहते हैं जो भारत के लिए इससे अच्छी खबर कोई और हो ही नहीं सकती। अकेले अपने दम पर मेच जिताने वाले युवराज ने आस्ट्रेलिया के खिलाफ शानदार अर्धशतक बनाया था। टीम इंडिया की अच्छा स्कोर बनाने या लक्ष्य का सफल पीछा करने की उम्मीदों का दारोमदार फार्म में चल रहे विराट कोहली, सुरेश रैना और कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी पर निर्भर करेगा। यदि टीम को अच्छी ओपनिंग मिल जाए तो यह ‘सोने पर सुहागा’ का काम करेगी।

दक्षिण अप्रीका को अपने सबसे अनुभवी बल्लेबाजों हाशिम अमला, ए बी डीविलियर्स और डुमिनी से उम्मीदें रहेंगी। लेकिन टीम के दो अन्य बल्लेबाज क्विंटन डी काक और डेविड मिलर को स्तरीय स्पिन गेंदबाजी के सामने संघर्ष करना पड़ा है। अमला पर खासतौर पर दारोमदार रहेगा कि वह भारतीय स्पिनरों से कैसे निपटते हैं।

दक्षिण अप्रीका ने ग्रुप चरण में श्रीलंका से पांच रन से हारने के बाद न्यूजीलैंड को दो रन से, हालैंड को छह रन से और इंग्लैंड को तीन रन से हराया था। दक्षिण अप्रीका को अपनी इन तीनों जीतों में जिस तरह संघर्ष करना पड़ा था उससे भारत को कुछ एंडवांटेज मिल सकता है। पिछले विश्व कप में भारत ने दक्षिण अप्रीका को रोमांचक संघर्ष में कोलम्बो में मात्र एक रन से हराया था और इस बार धोनी के धुरंधरों का एक और शानदार प्रदर्शन टीम इंडिया को खिताबी मुकाबले में पहुंचा सकता है।